सुरेश प्रभु का बड़ा बयान, कहा - भारत ने पहली बार इस मामले में चीन को पछाड़ा

  • अगले दो साल में 7000 अरब रुपए का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) आकर्षित करने का लक्ष्य
  • पिछले साल देश में 2660 अरब रुपए का एफडीआई आया
  • ऐसा पहली बार हुआ है जब भारत ने किसी साल एफडीआई आकर्षित करने के मामले में चीन को पीछे छोड़ दिया हो
  • पिछले साल चीन में कुल 2240 अरब रुपए का एफडीआई हुआ

By:

Published: 10 Mar 2019, 10:14 AM IST

नई दिल्ली। केंद्रीय उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु ने इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स के एक कार्यक्रम में कहा कि सरकार ने अगले दो साल में 7000 अरब रुपए का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) आकर्षित करने का लक्ष्य रखा है। पिछले साल देश में 2660 अरब रुपए का एफडीआई आया था। ऐसा पहली बार हुआ है जब भारत ने किसी साल एफडीआई आकर्षित करने के मामले में चीन को पीछे छोड़ दिया हो। पिछले साल चीन में कुल 2240 अरब रुपए का एफडीआई हुआ था।

यह भी पढ़ें: PNB की नई स्कीम, 10 हजार रुपए निवेश करने से 111 दिन बाद मिलेंगे इतने ज्यादा पैसे


ऐसे बढ़ा भारत का FDI

भारत में 2018 में प्राप्त एफडीआई में गत अगस्त में 1120 अरब रुपए के वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट सौदे से आया निवेश भी शामिल है। इसके अलावा पिछले साल के अन्य बड़े सौदों में हिंदुस्तान यूनिलीवर द्वारा जीएसके के उपभोक्ता कारोबार को 31,700 करोड़ रुपए में खरीदने और श्नाइडर इलेक्ट्रिक, टीपीजी कैपिटल, केकेआर, सॉफ्टबैंक और अलीबाबा आदि के सौदे शामिल रहे।

यह भी पढ़ें: 10 रुपए सस्ते में LPG सिलेंडर भरवाने का शानदार ऑफर, बस करना होगा ये छोटा सा काम


प्रभु ने बताया भारत का लक्ष्य

इसके साथ ही सुरेश प्रभु ने कहा कि, 'हमने पिछले साल रिकॉर्ड एफडीआई आकर्षित किया। हमने 2020 तक 7000 अरब रुपए का एफडीआई आकर्षित करने का लक्ष्य तय किया है और इस दिशा में काम करना शुरू कर दिया है।' उन्होंने कहा कि सरकार एफडीआई के लिए क्षेत्रवार आकलन कर रही है और इन्हें आकर्षित करने के लिये उचित नियम तैयार कर रही है। प्रभु ने दावा किया कि इस वित्त वर्ष में देश का निर्यात 2014 के 22610 अरब रुपए के अब तक के सर्वोच्च स्तर को पार कर जाएगा और 23100 अरब रुपए से अधिक रहेगा। इससे रोजगार सृजन में भी मदद मिलेगी।'


(ये कॉपी भाषा से ली गई है।)

Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर।

 

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned