महंगे हो सकते हैं LED बल्ब, कस्टम ड्यूटी बढ़ने से कंपनियों की बढ़ी मुश्किलें

  • LED Bulb : वित्त वर्ष 2021-22 के बजट में इंपोर्टेड कंपनोनेंट्स पर बढ़ाई गई कस्टम ड्यूटी
  • घरेलू मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के मकसद से सरकार ने उठाया ये कदम

By: Soma Roy

Published: 08 Feb 2021, 06:04 PM IST

नई दिल्ली। बिजली की बचत के लिए अब घरों से लेकर दफ्तरों तक में एलईडी बल्ब का इस्तेमाल किया जाता है। मगर अब इसे खरीदने के लिए आपको ज्यादा कीमत चुकानी पड़ सकती है। दरअसल वित्त वर्ष 2021-22 के बजट में वित्त मंत्री ने इंपोर्टेड कंपोनेंट्स यानी विदेश से मंगवाए जाने वाले पार्ट्स पर कस्टम ड्यूटी बढ़ा दी है। जिसके चलते एलईडी बल्ब बनाने वाली कंपनियों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। वे नुकसान की भरपाई के लिए इसकी कीमत में इजाफा कर सकते हैं।

मालूम हो कि मेड इन इंडिया योजना के तहत घरेलू उत्पाद निर्माताओं को बढ़ावा देने के मकसद से सरकार ने ये कदम उठाया है। सरकार का मानना है कि इंपोर्टेड चीजों पर कस्टम ड्यूटी लगाने से लोकल बिजनेस को बढ़ावा मिलेगा। इससे मैन्युफैक्चरिंग के क्षेत्र में क्रांति आएगी। मगर शाॅर्ट टर्म में एलईडी एवं उससे संबंधित अन्य प्रोडक्ट्स महंगे हो सकते हैं। चूंकि ज्यादातर इलेक्ट्रॉनिक कंपोनेंट्स को चीन, साउथ कोरिया और वियतनाम से मंगाया जाता है। मगर कस्टम ड्यूटी को दोगुना किए जाने से उत्पाद 10 पर्सेंट तक महंगे हो जाएंगे।

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक भारत में एलईडी लाइटनिंग सेक्टर करीब 10,000 करोड़ रुपए का है। इसमें करीब 60 प्रतिशत हिस्सा कंज्यूमर सेक्टर का है। जबकि बाकी 40 परसेंट कमर्शियल लाइटनिंग का है। ऐेसे में उपभोक्ताओं के जेब पर अतिरिक्त बोझ पड़ सकता है। क्योंकि बल्ब बनाने वाली कंपनियां अपने बोझ को कम करने के लिए इसकी कीमतों में इजाफा करेंगी।

Show More
Soma Roy
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned