मोदी सरकार का वेतनभोगियों को बंपर तोहफा, अब 20 लाख रुपए तक की Gratuity पर नहीं देना होगा कोई टैक्स

  • मोदी सरकार ने अपने आखिरी बजट में वेतनभोगियों के लिए बड़ी खुशखबरी दी थी।
  • सरकार ने मंगलवार को घोषणा करते हुए बताया कि अब 20 लाख रुपए तक की ग्रेच्युटी (Gratuity) मिलने पर किसी भी तरह का इनकम टैक्स (income tax) नहीं देना होगा।

     

By: Shivani Sharma

Updated: 05 Mar 2019, 06:33 PM IST

नई दिल्‍ली। मोदी सरकार ने अपने आखिरी बजट में वेतनभोगियों के लिए बड़ी खुशखबरी दी थी। पीयूष गोयल ने अंतरिम बजट में ग्रेच्युटी भुगतान सीमा को 10 लाख रुपए से बढ़ाकर 20 लाख रुपए कर दिया गया था। आगामी चुनाव को ध्यान में रखते हुए सरकार ने मंगलवार को घोषणा करते हुए बताया कि अब 20 लाख रुपए तक की ग्रेच्युटी (Gratuity) मिलने पर किसी भी तरह का इनकम टैक्स ( income tax ) नहीं देना होगा।


ट्वीट कर दी जानकारी

आपको बता दें कि पहले यह सीमा 10 लाख रुपए तक थी, जिसको सरकार नें मंगलवार को बढ़ा दिया है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लोगों को ट्वीट कर जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आयकर अधिनियम की धारा 10 (10) (iii) के तहत ग्रेच्युटी के लिए आयकर छूट को बढ़ाकर 20 लाख रुपए किया गया है, लेकिन सरकार के इस कदम से सभी पब्लिक सेक्टर कर्मचारियों और अन्य कर्मचारियों को फायदा होगा, जो पेमेंट ऑफ ग्रेच्युटी एक्ट के तहत नहीं आते हैं।

 

ग्रेच्युटी आपकी सैलरी का है महत्वपूर्ण हिस्सा

आपको बता दें कि ग्रेच्युटी आपकी सैलरी का वो हिस्सा होता है, जो कंपनी या आपका नियोक्ता, यानि एम्प्लॉयर आपकी सालों की सेवाओं के बदले देता है। नौकरी करने वाले कर्मचारियों के लिए ग्रेच्युटी बहुत ही जरूरी और लाभकारी योजना है।


इन लोगों को मिलती है ग्रेच्युटी

नौकरी छोड़ने या खत्म हो जाने के बाद में कर्मचारियों को नियोक्ता द्वारा यह राशि दी जाती है। यह सिर्फ उन कर्मचारियों को मिलती है जो किसी भी कंपनी में लगातार लगातार 4 साल, 10 महीने, 11 दिन तक काम करते हैं। ऐसे कर्मचारी की सेवा को पांच साल की अनवरत सेवा माना जाता है, और आमतौर पर पांच साल की सेवाओं के बाद ही कोई भी कर्मचारी ग्रेच्युटी का हकदार बनता है।


ऐसे करते हैं कैलकुलेट

आपको बता दें कि आप अपनी ग्रेच्युटी को आसानी से कैलकुलेट कर सकते हैं। इसके कैलकुलेट करने का फॉर्मूला काफी आसान है। पांच साल की सेवा के बाद सेवा में पूरे किए गए हर साल के बदले अंतिम महीने के बेसिक वेतन और महंगाई भत्ते को जोड़कर उसे पहले 15 से गुणा किया जाता है, फिर सेवा में दिए गए सालों की संख्या से, और इसके बाद हासिल होने वाली रकम को 26 से भाग दे दिया जाता है, और वही आपकी ग्रेच्युटी है।

Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर

Show More
Shivani Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned