सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से आपको होगा बड़ा फायदा, इस तरह बैंक खाते में जमा होंगे ज्यादा पैसे

  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि विशेष भत्ता यानी स्पेशल अलाउंस बेसिक पे का ही हिस्सा है।
  • कोर्ट के इस फैसले से नौकरीपेशा लोगों के खाते में ज्यादा पीएफ जमा हो सकेगा।
  • फैसले का फायदा पीएफ के तौर पर 15000 तक के मूल वेतन और भत्ता जमा कराने वालों को मिलेगा।

By:

Published: 01 Mar 2019, 12:37 PM IST

नई दिल्ली। गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम फैसला सुनाया है, जिससे नौकरी करने वाले लोगों को बड़ी राहत मिली है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि विशेष भत्ता यानी स्पेशल अलाउंस बेसिक पे का ही हिस्सा है। कोर्ट के इस फैसले से नौकरीपेशा लोगों को निश्चित रूप से बड़ा लाभ होगा क्योंकि अब लोगों के खाते में ज्यादा पीएफ जमा हो सकेगा। जो लोग नौकरी करते हैं उन्हें अब ज्यादा पीएफ मिलेगा। पूर्व सीपीएफसी ने बताया कि इस फैसले का फायदा पीएफ के तौर पर 15000 तक के मूल वेतन और भत्ता जमा कराने वालों को मिलेगा।

यह भी पढ़ें: मार्च में 9 दिन तक बंद रहेंगे भारत के सभी बैंक, पहले ही कर लें कैश का इंतजाम


बेंच से पूछा गया था ये सवाल

आपको बता दें कि बेंच से ये सवाल पूछा गया था कि कंपनियों द्वारा कर्मचारियों को दिए गए विशेष भत्ते को सेक्शन 2 (b)(ii) के तहत मूल वेतन के तौर पर शामिल किया जाना चाहिए या नहीं। पीएफ कमिश्नर ने अपने फैसले में कहा था कि विशेष भत्ता और मूल वेतन को एक साथ मिलाकर पीएफ जोड़ा जाना चाहिए। अरुण मिश्रा और नवीन सिन्हा की बेंच ने उस अपील को ठुकराया जिसमें पीएफ कमिश्नर के फैसले को लेकर कंपनियों द्वारा सवाल उठाया गया था।

यह भी पढ़ें: 100 रुपए से लाखों रुपए कमाने का सबसे आसान तरीका, ये है पूरी योजना


कोर्ट ने सुनाया ये फैसला

पीएफ कमिश्नर ने कहा कि विशेष भत्ता और मूल वेतन को एक साथ मिलाकर पीएफ जोड़ा जाना चाहिए। वहीं न्यायमूर्ति सिन्हा ने कहा कि, 'भत्ते का स्ट्रक्चर और सैलरी के घटकों की जांच तथ्यों पर की गई है, यह अधिनियम के तहत प्राधिकरण और अपीलीय प्राधिकारी दोनों के द्वारा की गई है। जो एक तथ्यात्मक निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि जिस अलाउंस पर सवाल उठाए जा रहे थे वह बेसिक पे का ही हिस्सा है। जबकि इसे पीएफ का हिस्सा बताकर दिया जा रहा है।'


Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर।

 

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned