IMF बैठक में इकोनॉमिक ग्रोथ को लेकर सीतारमण ने की बातचीत, कहा - आर्थिक विकास के लिए ढांचागत उपायों की जरूरत

  • वैश्विक सहयोग को मजबूत बनाने की जरूरत पर जोर दिया
  • गवर्नर शक्तिकांत दास भी रहे मौजूद

Shivani Sharma

October, 2109:53 AM

नई दिल्ली। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि राजकोषीय, मौद्रिक और संरचनात्मक उपायों को शामिल कर नियोजित व संतुलित दृष्टिकोण को अपनाने से विभिन्न देश अपनी आर्थिक विकास की संभावनाओं को प्राप्त कर सकते हैं। सीतारमण ने अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) से पूंजी प्रवाह के लिए कमजोर अर्थव्यवस्थाओं की संवेदनशीलता का आकलन करने के लिए नीतिगत रूपरेखा तैयार करने की मांग की।


IMF बैठक के दौरान दी जानकारी

वैश्विक आर्थिक जोखिम और असंतुलन ने सरकारी पहलों के अलावा बहुपक्षीय स्तर पर वैश्विक सहयोग को मजबूत बनाने की जरूरत पर जोर दिया है। उन्होंने अमेरिका के वाशिंगटन डीसी में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक वार्षिक बैठक 2019 में शनिवार अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और वित्तीय समिति (आईएमएफसी) के पूर्ण सत्र के दौरान यह बात कही।


वित्त मंत्री ने दी जानकारी

वित्तमंत्री ने कहा, "विभिन्न देशों द्वारा राजकोषीय, मौद्रिक और संरचनात्मक उपायों को लागू करने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर एक कार्यनीति और संतुलित ²ष्टिकोण अपनाने से उनको अपनी विकास क्षमता को प्राप्त करने में मदद कर मिल सकती है।"


ये अधिकारी रहे शामिल

आईएमएफ के कोटा की सामान्य समीक्षा के 15वें दौर (15वीं जीआरक्यू) की कोटे में बढ़ोतरी के बिना ही समाप्त होने की संभावना है। वित्तमंत्री ने कहा कि 16वें दौर पर सही तरीके और उचित समय सीमा में काम शुरू होना चाहिए। वित्तमंत्री के इस आधिकारिक दौरे के दौरान भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास, आर्थिक मामलों के सचिव अतनु चक्रवर्ती और अन्य अधिकारी भी उनके साथ थे।

Show More
Shivani Sharma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned