1234 करोड़ रुपए की वसूली करेगा PNB, 11 एनपीए खातों की होगी बिक्री

1234 करोड़ रुपए की वसूली करेगा PNB, 11 एनपीए खातों की होगी बिक्री

Shivani Sharma | Updated: 09 Sep 2019, 10:51:42 AM (IST) फाइनेंस

  • बैंक 11 NPA खातों की वसूली करेगी
  • 12 सितंबर से बोली प्रक्रिया शुरु हो जाएगी

नई दिल्ली। देश में बैंकों के मर्जर का दौर शुरु होने वाला है। मर्जर होने से पहले पंजाब नेशनल बैंक 1234 करोड़ रुपए की वसूली के लिए 11 एनपीए खातों की बिक्री करने जा रहा है। बैंक ने अपने पैसों की रिकवरी करने के लिए यह फैसला लिया है। आपको बता दें कि पीएनबी घोटाले के दौरान बैंक को करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ है। इसके साथ ही बैंक ने कई अन्य बड़े संस्थानों को भी लोन दे रखा है, जहां पर बैंक का फंसा हुआ है।


11 NPA खातों की करेगा बिक्री

बैंक ने 11 एनपीए खातों के लिए गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों और वित्तीय संस्थान से बोलियां मांगी हैं। इन खातों में वीजा स्टील ( 441.83 करोड़ रुपये का बकाया ), इंडबारत एनर्जी उत्कल (414.23 करोड़), एस्टर प्राइवेट लिमिटेड (113.57 करोड़ रुपये) और ओम शिव एस्टेट्स (100.16 करोड़ रुपये) के पास फंसे लोन शामिल हैं।


ये भी पढ़ें: देश के इन 18 सरकारी बैंकों में हुई 31,898.63 करोड़ की धोखाधड़ी, RTI में हुआ खुलासा


विज्ञापन जारी कर दी जानकारी

पीएनबी ने विज्ञापन जारी कर इस संबध में कहा कि यह बिक्री प्रक्रिया पूरी तरह से नकदी लेनदेन पर आधारित होगी। बैंक ने संभावित बोलीदाताओं से कहा कि वह बोली प्रक्रिया में तेजी रखें। पीएनबी ने कहा कि वह दस्तावेजों की प्रतियों को एक जगह पर सत्यापन के लिए लाने की हर संभव करेगा।


12 सितंबर से लगेगी बोली

आपको बता दें कि इसके लिए 12 सितंबर से बोली लगना शुरु हो जाएंगी। बोली जमा करने की अंतिम तिथि 20 सितंबर 2019 है। बोली 21 सितंबर को खोली जाएगी। सरकार के 10 सरकारी बैंकों को मिलाकर चार बड़े बैंक बनाने की घोषणा की है। इसकी के तहत पंजाब नेशनल बैंक के साथ ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया का विलय होगा।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned