जान लीजिये एडवांस टैक्स का इतिहास, ना जमा कराने वालों के खिलाफ होती है यह कार्रवार्इ

जान लीजिये एडवांस टैक्स का इतिहास, ना जमा कराने वालों के खिलाफ होती है यह कार्रवार्इ

Saurabh Sharma | Publish: Jun, 14 2018 07:00:18 PM (IST) फाइनेंस

एडवांस टैक्स का प्रावधान 'पे एज यू अर्न' के मकसद से लाया गया है। असेसिंग ऑफिसर चाहे तो आपको नोटिस भेजकर देनदारी बता सकता है।

नर्इ दिल्ली। 15 जून को एडवांस टैक्स जमा कराने की अंतिम तारीख है। लेकिन क्या आपको इस बारे में जानकारी है कि एडवांस टैक्स का इतिहास क्या है। आखिर इसे शुरू करने का वास्तव में मकसद क्या है? एडवांंस टैक्स जमा ना कराने को लेकर किस तरह की कार्रवार्इ हो सकती है। वैसे इस बारे में लोगों को कम ही जानकारी होती है। आइए आप भी जान लीजिए एडवांस टैक्स के इतिहास आैर ना जमा कराने के खिलाफ कार्रवार्इ के बारे में…

इस मकसद से लाया गया था एडवांस टैक्स
एडवांस टैक्स का प्रावधान 'पे एज यू अर्न' के मकसद से लाया गया है। असेसिंग ऑफिसर चाहे तो आपको नोटिस भेजकर देनदारी बता सकता है। यह नॉन अपीलएबल है, आपको इसका भुगतान करना ही होगा, क्योंकि इसके खिलाफ आप किसी भी अदालत में नहीं जा सकते। इस तरह का नोटिस 28 फरवरी से पहले भेज दिया जाता है। यदि आपके पास 1 मार्च तक नोटिस नहीं आता है, तो आप इसे नजरअंदाज कर सकते हैं, यानि फिर यह वैलिड नहीं होगा। यदि बीते सालों में आपका असेसमेंट नहीं हुआ है, तो यह नोटिस आपके पास नहीं आएगा।

एडवांस टैक्स नहीं दिया तो देना होगा ब्याज
एडवांस टैक्स ना जमा कराने पर आप पर कार्रवार्इ भी हो सकती है। जो आप पर काफी भारी भी पड़ सकती है। अमूमन एडवांस ना जमा कराने पर लोगों को इसके खिलाफ होने वाली कार्रवार्इ के बारे में कम ही लोग जानते हैं। अगर आपने एडवांस टैक्स नहीं दिया तो इस पर आपको ब्याज देना होता है। यदि मार्च माह तक टैक्स का 31 फीसदी हिस्सा जमा नहीं कराया तो इस पर 1 फीसदी ब्याज देना होगा। यह आयकर की धारा 234 बी आैर 234 सी के तहत लिया जाता है।

इन तारीखों से पहले जमा करना होता है टैक्स
एडवांस टैक्स के पहली किश्त के लिए 15 जून आखिरी तारीक है। इस दायरे में आने वाले आयकरदाता अंतिम तिथि तक एडवांस टैक्स जमा करवा दें। दूसरी, तीसरी व चौथी किश्त के लिए क्रमश सितंबर, दिसंबर आैर मार्च की 15 तारीख इसकी अंतिम तिथि होती है। यदि मार्च माह तक टैक्स का 31 फीसदी हिस्सा जमा नहीं कराया तो इस पर 1 फीसदी लगता है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned