SBI ने किया सावधान, EMI रुकवाने के लिए ना दें किसी को अपना OTP Number

  • बैंक ने किया ट्वीट, साइबर फ्रॉडर्स नए तरीके से आपको लगा सकते हैं चूना
  • ईएमआई रुकवाने के लिए आपसे मांग सकते हैं आपको ओटीपी नंबर
  • बैंक ने किया अलर्ट, कहा ईएमआई रुकवाने में ओटीपी की जरुरत नहीं

By: Saurabh Sharma

Updated: 07 Apr 2020, 08:15 AM IST

नई दिल्ली। पूरे देश में लॉकडाउन है। आर्थिक तंगी को देखते हुए आरबीआई ने बैंकों को तीन महीने का मोरेटोरियम दिया हुआ है। जिसका फायदा आम लोगों को तीन महीने की ईएमआई आगे बढ़ाने का मिल रहा है। देश के तकरीबन सभी बैंकों ( प्राइवेट और सरकारी ) ने आम लोगों को यह सुविधा दे दी है। अब बैंकों और कस्टमर्स के सामने एक और परेशानी खड़ी हो गई है।

इस लोन डेफरमेंट की सुविधा दिलाने के लिए साइबर फ्रॉडर्स आपको कॉल कर और एसएमएस के माध्यम से लूट भी सकते हैं। देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने ट्वीट के माध्यम से सतर्क रहने के लिए कहा है। एसबीआई ने कहा है कि अगर कोई आदमी आपको बैंक का कर्मचारी बताकर लोन डेफरमेंट के नाम पर ओटीपी शेयर करने के लिए कहता है तो समझ लीजिए आपके साथ फ्रॉड होने जा रहा है।

यह भी पढ़ेंः- Coronavirus Lockdown: Banks की तरह NBFCs को भी मिले राहत, तभी बढ़ेगी इकोनॉमी को रफ्तार

साइबर क्रिमिनल ऐसे उठा रहे हैं फायदा
एसबीआई की ओर से ट्वीट के अनुसार साइबर क्रिमिनल लोगों को लूटने के लिए फोन कर रहे हैं और लोन की ईएमआई रुकवाने के लिए ओटीपी की डिमांड कर रहे हैं। जिस पर एसबीआई की ओर से बड़ा अलर्ट जारी किया है। एसबीआई ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि लोन की ईएमआई रुकवाने के लिए किसी को ओटीपी बताने की जरुरत नहीं है। इस सुविधा के लिए ओटीपी की जरुरत नहीं होती है।

अगर कोई फोन पर कॉल कर या एसएमएस के माध्यम से आपसे ओटीपी की डिमांड कर रहा है तो समझ लीजिए कि आपके साथ धोखा हो रहा है। आपको बता दें कि देश के सभी बैंकों ने लोन ईएमआई डेफरमेंट स्कीम की पूरी जानकारी अपनी-अपनी वेबसाइट्स पर दी हुई है, जहां पर जाकर आप अपडेट हो सकते हैं।

इन सेफ्टी टिप्स को करें फॉलो
- यूपीआई आईडी से डोनेशन मांगने वालों से सावधान रहें।
- अपनी गाढ़ी कमाई को डोनेट करने से पहले कई बार सोचे लें।
- रुपया ट्रांसफर करने से पहले पैसे प्राप्त करने वाले की पहचान की जांच जरूर करें।
- ई-कॉमर्स साइट पर अपने कार्ड की डिटेल कभी सेव ना करें।
- अगर आपको किसी पर शक होता है उसकी सूचना पुलिस दें।
- ओटीपी मांगने वाले को बिल्कुल भी ना दें, इसकी शिकायत बैंक और आरबीआई को करें।
- डेबिट और क्रेडिट कार्ड को संभाल कर रखें, से पिन, पासवर्ड और सीवीवी नंबर शेयर ना करें।

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned