त्योहारी सीजन में एसबीआई ने लॉन्च की खास सुविधा, अब बिना कार्ड के कहीं भी कर सकेंगे पेमेंट

  • सरकारी बैंक ने लॉन्च की 'एसबीआई कार्ड पे' नई सुविधा
  • बैंक के एमडी और सीईओ ने दी जानकारी

Shivani Sharma

October, 1711:32 AM

फाइनेंस

नई दिल्ली। देश के सरकारी बैंक में खाता रखने वालों के लिए बड़ी खुशखबरी है। त्योहारी सीजन में एसबीआई ने अपने ग्राहकों को एक और खास सुविधा देने का ऐलान किया है। इस सुविधा का नाम ‘एसबीआई कार्ड पे’ है, जिसके तहत आप पॉइंट ऑफ सेल्स (पीओएस) मशीनों पर कार्ड को छुए बिना मोबाइल फोन के माध्यम से भुगतान कर सकते हैं।


ग्राहकों को मिलेगी खास सुविधा

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने कल यानी बुधवार को इस सुविधा को लॉन्च किया है। इस खास सुविधा के अन्तर्गत खाताधारक को भुगतान करते समय अपने कार्ड को मशीन में स्वैप करने की जरुरत नहीं होगी। इस फीचर से एसबीआई क्रेडिट कार्ड धारक पीओएस टर्मिनल्स पर मोबाइल फोन के जरिए कॉन्टैक्टलेस पेमेंट कर सकेंगे।


बैंक ने जारी किया बयान

कंपनी ने जानकारी देते हुए बताया कि एसबीआई कार्ड पे में ग्राहक एनएफसी प्रौद्योगिकी के माध्यम से पीओएस पर भुगतान कर सकते हैं। इसके लिए उन्हें अपने मोबाइल पर बस एक टैप करना होगा और उन्हें पीओएस पर क्रेडिट कार्ड को स्वाइप या छूने या पिन नंबर डालने की जरूरत नहीं होगी।


बैंक के एमडी ने दी जानकारी

एसबीआई कार्ड के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी हरदयाल प्रसाद ने कहा कि एसबीआई कार्ड पे पर ग्राहक अपनी रोजाना की लेनदेन सीमा भी तय कर सकते हैं। अभी इस सुविधा का उपयोग कर एक बार में 2,000 रुपये तक और दिनभर में 10,000 रुपये तक का भुगतान किया जा सकता है।


VISA प्लेटफॉर्म पर किया लॉन्च

आपको बता दें कि इस फीचर की मदद से मोबाइल के जरिए कार्ड पेमेंट्स ज्यादा तेज, सुविधाजनक और सिक्योर रहते हैं। इसके साथ ही ग्राहकों को पेमेंट करने में काफी आसानी होगी। फिलहाल अभी एसबीआई ने इस सुविधा को VISA प्लेटफॉर्म पर लॉन्च किया है।

Show More
Shivani Sharma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned