SBI का सख्त कदम,खाते में पैसे जमा करने को लेकर बना दिया ये नया नियम

आजकल हर दिन लोगों के बैंक अकाउंट के साथ छेड़छाड़ का मामला सामने आ रहा है। हैकर्स नए-नए तरीके आपना कर लोगों के बैंक अकाउंट को खाली कर देते है।

By: manish ranjan

Published: 10 Sep 2018, 11:55 AM IST

नई दिल्ली। आजकल हर दिन लोगों के बैंक अकाउंट के साथ हो रहे फ्रॉड का मामला सामने आ रहा है। हैकर्स नए-नए तरीके अपना कर लोगों के बैंक अकाउंट को खाली कर देते है। ऐसे में लोगों के साथ होने वाली धोखाधड़ी पर रोक लगाने के लिए SBI ने एक सख्त कदम उठाते हुए एक नया नियम बनाया हैं। इस नए नियम के चलते अब से दूसरे के बैंक खाते में कैश नहीं जमा कर पाएंगे। इस नए नियम के लाने का मकसद यह भी है की लोगों के बैंक अकाउंट में जो भी चल रहा है। वो उसकी जिम्मेदारी हो और वो किसी भी तरह से जवाबदेही से बच न सके।

sbi ने लागू किया नया नियम
बैंक ने इस नए नियम को लागू करने के साथ इसमें विशेष परिस्थितियों का भी ख्याल रखा है। जैसे अगर किसी पिता को अपने बेटे के अकाउंट में पैसे जमा करने है तो पिता को बेटे से एक अनुमति लेटर लिखवाना होगा जिसपर बेटे के साइन होने बेहद जरुरी है। इसके अलावा बैंक काउंटर पर पैसे के साथ दी जाने वाली जमा फॉर्म पर बैंक खाता धारक का साइन होना चाहिए। इन दो परिस्थितियों में ही कोई दूसरा शख्स किसी के बैंक खाते में पैसे जमा कर पाएगा। हालांकि बैंक ने ये भी साफ कर दिया है कि अगर कोई ऑनलाइन किसी के बैंक खाते में पैसे जमा कराना चाहता है तो वह इसके लिए स्वतंत्र है। यहां नया नियम लागू नहीं होगा।

sbi ने इसलिए बनाया नया नियम
इसके अलावा अगर ग्रीन कार्ड और इंस्टा डिपॉजिट कार्ड है तो कोई भी व्यक्ति इस कार्ड के जरिये उसके खाते में बैंक जाकर या कैश डिपॅाजिट मशीन से पैसा जमा कर सकता है। एसबीआई का इस नए नियम को लेकर कहना है की हमने ये नया नियम आयकर विभा के अनुरोध पर बनाया हैं। दरअसल नोटबंदी के दौरान कई बैंक खातों में बड़ी संख्या में हजार और पांच सौ नोट जमा किए गए थे। अब जांच के बाद जब लोगों से इतने सारे नोटों के बारे में पूछा जा रहा है तो उनका कहना है कि किसी अनजान शख्स ने उनके बैंक खातों में पैसे जमा करा दिए हैं। उनका उससे कोई लेना-देना नहीं है। इसके बाद ही आयकर विभाग ने सरकारी बैंकों से अनुरोध किया है कि वे ऐसे नियम बनाएं कि कोई दूसरा शख्स किसी के बैंक खाते में नकद रुपए नहीं जमा करा पाए, ताकि कोई व्यक्ति अपने बैंक खाते में जमा पैसे के बारे में अपनी जिम्मेदारी और जवाबदेही से बच न सके।

 

 

Show More
manish ranjan Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned