श्रीकृष्ण जन्माष्टमी विशेषः सुहागनगरी की जिला जेल में "देवकी" के साथ बंद हैं "बाल गोपाल", जानिए वजह

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी विशेषः सुहागनगरी की जिला जेल में

Amit Sharma | Publish: Sep, 03 2018 01:02:13 PM (IST) Firozabad, Uttar Pradesh, India

- जिला कारागार में अपनी मां के साथ बंद हैं 11 निरपराध बाल गोपाल।

फिरोजाबाद। देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम मची हुई है। अजन्मे के जन्म को लेकर विशाल पांडाल बनाए गए हैं। मंदिरों को विद्युत झालरों को सजाया गया है। जेलनुमा पांडाल में राजा कंस के दरबारियों को लगाया गया है। इंतजार है तो बस उस घड़ी का जब रात्रि के 12 बजेंगे और अजन्मे का जन्म होगा। फिर शुरू होगा जय कन्हैया लाल की, हाथी घोड़ा पालकी। भगवान श्रीकृष्ण तो आज रात जेल से रिहा हो जाएंगे लेकिन जिला जेल में बंद बाल गोपालों को नहीं नहीं पता कि वह जेल से कब रिहा होंगे।

यह भी पढ़ें—

Big Breaking: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर मानसून के रौद्र रूप ने बढ़ाई परेशानी, भारी बारिश
से रहें सावधान, भारी पड़ेंगे ये घंटे

11 बच्चे बंद हैं जेल में
फिरोजाबाद के जिला कारागार में ऐसे 11 बच्चे बंद हैं, जो अपनी मां के साथ सलाखों में बंद हैं। उन्हें बाहर की दुनियां की कोई जानकारी नहीं है। दस दिन पूर्व जन्मी एक मासूम ने अब तक जेल के बाहर की दुनियां नहीं देखी है। हत्या के आरोप में उसकी मां 30 मार्च से जेल में बंद है। प्रसव पीड़ा होने पर उसे जिला महिला अस्पताल लाया गया था। अस्पताल से छुट्टी होने के बाद मां के साथ नन्हीं बेटी को भी जेल भेज दिया गया था। कई तो ऐसे हैं जो अपने पिता, नाना-नानी, दादा-दादी से भी अंजान हैं।

मथुरा के कलाकार करेंगे भजन संध्या
जन्माष्टमी के मौके पर आज रात जेल में ही भजन संध्या होगी। जेल अधीक्षक एमए खान ने बताया कि जेल में भजन संध्या के लिए मथुरा से मंडली बुलाई है। कार्यक्रम रात नौ से 12 बजे तक किया जाएगा। जेल परिसर में बने मंदिर को आकर्षक रूप से सजाया गया है। बच्चे अपनी मां के साथ जेल में हैं। इन बच्चों को बाहर भी नहीं छोड़ सकते। यदि इनके परिवारीजन बच्चों को लेने आएंगे तो उनपकी सुपुर्दगी में कर दिए जाएंगे।

 

Ad Block is Banned