नमाज पढ़ने के लिए मास्क लगाना होगा अनिवार्य, इस आयु के लोगों को नहीं मिलेगी इजाजत

— अनलॉक—1 में आठ जून से धार्मिक स्थल खोले जाने की अनुमति मिलने के बाद अधिकारी और विभिन्न धर्मो के अनुयायी तैयारियों में जुट गए हैं।

By: arun rawat

Updated: 03 Jun 2020, 01:37 PM IST

फिरोजाबाद। कोरोना वायरस को लेकर किए गए लॉक डाउन में धार्मिक स्थलों को भी बंद करा दिया गया था। अब अनलॉक—1 में धार्मिक स्थलों को खोले जाने की तैयारी है। मस्जिद में नमाज पढ़ने के लिए मास्क लगाना अनिवार्य होगा। वहीं दस वर्ष से कम और 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को मस्जिद में आने पर पाबंदी रहेगी। वह घर पर ही नमाज अदा करेंगे।

एडवाइजरी जारी की
इस्लामिक सेंटर फिरोजाबाद की ओर से मस्जिदों के सिलसिले में एडवाइजरी जारी की गई है। इस्लामिक सेंटर के सचिव मौलाना आलम मुस्तफा याकूबी ने कहा कि इस सिलसिले में कुछ दिनों तक हालात को देखकर तथा स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए दोबारा एडवाइजरी जारी की जा सकती है। आलम मुस्तफा याकूबी ने कहा कि मस्जिदों के खुलने से पहले पूरी मस्जिद को सेनिटाइज किया जाए। गृह मंत्रालय के गाइडलाइन के अनुसार मस्जिद में किसी भी समय भीड़ जमा ना हो। नमाज के अतिरिक्त दूसरा धार्मिक कार्यक्रम ना करें। 10 वर्षों से कम 65 वर्ष से अधिक उम्र वाले लोग मस्जिद में ना आएं। वह घर पर ही नमाज अदा करें।

नमाज के दौरान रखें दूरी
मस्जिद में सिर्फ फर्ज नमाज जमात के साथ अदा की जाए। सुन्नतें और नफल अपने-अपने घरों में अदा करें। नमाज मास्क लगाकर या रुमाल से नाक मुंह ढक कर ही अदा करें। नमाज के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा-पूरा ख्याल रखा जाए। दो नमाजियों के बीच दो मीटर का फासला रखा जाए। नमाज पढ़ने के लिए लोग साफ कपड़ा घर से लेकर आएंगे। मस्जिद में रखी हुई टोपियों व तौलिया का इस्तेमाल ना करें। मस्जिद के दरवाजे पर हाथ धोने के लिए साबुन, पानी का इंतजाम किया जाएगा। किसी से गले न मिलें और न किसी से हाथ मिलाएं।

Corona virus
Show More
arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned