scriptcsc operator arrest making fake corona vacine certificate in Firozabad | वैक्सीन लगवाए बिना प्रमाण पत्र बनाने वाला जनसेवा केंद्र संचालित गिरफ्तार, उसके साथी की पुलिस को तलाश | Patrika News

वैक्सीन लगवाए बिना प्रमाण पत्र बनाने वाला जनसेवा केंद्र संचालित गिरफ्तार, उसके साथी की पुलिस को तलाश

— यूपी के फिरोजाबाद में पकड़ा गया जनसेवा केंद्र संचालक, टीकाकरण में कार्यरत एएनएम का पासवर्ड किया था चोरी।

फिरोजाबाद

Published: November 19, 2021 01:12:09 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
फिरोजाबाद। यूपी के फिरोजाबाद में बिना कोरोना वैक्सीन लगवाए ही प्रमाण पत्र बनाने वाला जनसेवा केंद्र संचालक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। उसके यहां से पुलिस ने लेपटॉप भी बरामद किया है। उससे अब तक बनाए गए प्रमाण पत्रों की जानकारी की जा रही है। इस कार्य में उसका एक साथी जो स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत है, वह सहयोग कर रहा था।
यह भी पढ़ें—

आगरा की तीन मंजिला जूता फैक्ट्री में लगी भीषण आग, घनी आबादी के बीच चल रही थी फैक्ट्री

यह था मामला
थाना रामगढ़ पुलिस ने साइबर सेल की मदद से मुबीन पुत्र कमरुद्दीन को गिरफ्तार किया है। वह दीदामई का रहने वाला है। पुलिस ने उसके पास से एक लैपटॉप तथा 43 प्रमाण पत्र बरामद किए हैं। मुबीन पुत्र कमरुउद्दीन निवासी दीदामई थाना रामगढ़ जनसेवा केंद्र संचालित करता है। मुबीन के साथ अरुण पुत्र ध्रुव सिंह निवासी नगला मिर्जा भी जनसेवा केंद्र पर काम करता है। उसका साथी अरुण सीएमओ कार्यालय में संविदा की नौकरी करता है। पिता भी स्वास्थ्य विभाग में वाहन चलाते हैं। थानाध्यक्ष रामगढ़ हरवेंद्र मिश्र ने बताया कि अरुण ने कोविड टीकाकरण में लगी एएनएम की आईडी पासवर्ड चोरी करके मुबीन को दे दिया। जिससे मुबीन कोविन पोर्ट्ल पर फर्जीवाडा कर बिना टीकाकरण कराए कोविड-19 का प्रमाण पत्र बनाकर लोगों को देने लगा।
यह भी पढ़ें—

प्रेमी की बारात में जहर लेकर पहुंच गई प्रेमिका, दुल्हन के मामा की सदमे से मौत
CSC Sanchalak
आरोपी मुविन
300 से 500 में देता था प्रमाण पत्र
इसके लिए वो 300 से 500 रुपये तक लेता है। स्वास्थ्य विभाग को गड़बड़झाले का पता चला तो हड़कंप मच गया। डा. नागेंद्र माहेश्वरी ने थाने में घटना की तहरीर दी। तहरीर के आधार पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया। पुलिस ने कार्रवाई कर मुबीन को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस अरुण की तलाश कर रही है। पुलिस ने बताया कि वह पोर्टल पर प्रमाण पत्र बनाने वाले का नाम भी चढ़ा देता था। जिससे फर्जीवाड़े का पता ना चल सके। इस घटना के बाद स्वास्थ्य विभाग और पुलिस अन्य ऐसे जनसेवा केंद्र संचालक जो इस तरह के कृत्य में लिप्त हैं। उनकी तलाश में जुटे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहकर्नाटक में कोरोना की रफ्तार तेज, 47  हजार से अधिक नए मामलेरामगढ़ पचवारा में बरसे टिकैत, कहा किसानों की जमीन को छीनने नहीं दिया जाएगाप्रदेश के डेढ़ दर्जन जिलों में रेत का अवैध परिवहन जारी, सरकार को करोड़ों का नुकसान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.