सरकारी तंत्र से परेशान दिव्यांग बच्चे ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से लगाई ये गुहार, देखें वीडियो

Amit Sharma | Publish: Sep, 08 2018 12:07:29 PM (IST) Firozabad, Uttar Pradesh, India

— प्रधानमंत्री आवास, शौचालय और राशन कार्ड बनवाने के लिए मुख्यमंत्री से की मांग।

फिरोजाबाद। कवि अदम गोंडवी की ये चंद लाइनें 'तुम्हारी फाइलों में गाँव का मौसम गुलाबी है, मगर ये आंकड़े झूठे हैं ये दावा किताबी है'। सरकारी तंत्र पर बिल्कुल सटीक बैठती हैं। जहां एक ओर केन्द्र और प्रदेश सरकार गरीबों को प्रधानमंत्री आवास, स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय और गरीबों के लिए राशन देने की बात कर रही है। वहीं दूसरी ओर गरीब सरकार की योजनाओं के लिए दर—दर की ठोकरें खाने को विवश हैं।

यह भी पढ़ें—

अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस: सुहागनगरी के बच्चों में शिक्षा की लौ जगा रहीं प्रतिभा, पढ़िए पूरी खबर

खुले में शौच जाता है दिव्यांग नीरू
फिरोजाबाद जिले के नारखी क्षेत्र के गांव राजपुर डोरसा कोटला में रहने वाला 14 वर्षीय नीरू पुत्र सत्यपाल दिव्यांग है। उसे आंखों से कुछ भी दिखाई नहीं देता है। वह चार भाई—बहन हैं। बड़ी बहन शादी योग्य है। शौच के लिए उसे खेत में जाना पड़ता है। शौच कराने के लिए नीरू को परिवार का कोई न कोई सदस्य खेत में लेकर जाता है। बाकी परिवार के सभी सदस्य भी खेत में शौैच करने जाते हैं।

यह भी पढ़ें—

आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों पर डीएम ने कसा शिकंजा, की ये कार्रवाई

दिव्यांग बच्चे ने लगाई मुख्यमंत्री से गुहार
ग्राम प्रधान और सचिव ने भी नहीं उसकी नहीं सुनी तो उसने हारकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मदद की गुहार लगाई। दिव्यांग बच्चे का कहना है कि ग्राम प्रधान और सचिव उसकी नहीं सुन रहे हैं। उनके पिता बहुत गरीब हैं। मेहनत मजदूरी करके किसी तरह उनका पालन पोषण कर रहे हैं। रहने को झोंपड़ी है और सुविधा के नाम पर कुछ भी नहीं। उन्हें प्रधानमंत्री आवास, एक शौचालय और राशन कार्ड चाहिए। जिससे उसका परिवार भली भांति जीवन यापन कर सके।

यह भी पढ़ें—

एससी—एसटी एक्ट के बाद सवर्ण समाज लोकसभा चुनाव में करेगा ऐसा काम कि हिल जाएगी मोदी सरकार की जड़ें, पढ़िए ये खबर

Ad Block is Banned