पत्रिका असर: दिव्यांग बच्चे को मिला डीएम का सहारा, मिलेगा योजनाओं का लाभ

Amit Sharma | Publish: Sep, 10 2018 10:19:25 AM (IST) Firozabad, Uttar Pradesh, India

— प्रधानमंत्री आवास, शौचालय और राशन कार्ड न होने की मुख्यमंत्री से की थी शिकायत।

फिरोजाबाद। सरकारी तंत्र से परेशान दिव्यांग बालक की आवाज आखिरकार डीएम नेहा शर्मा के पास तक पहुंच ही गई। रहने को न घर, शौच जाने को न शौचालय और न राशन के लिए राशन कार्ड बने होने की खबर को पत्रिका द्वारा प्रमुखता से प्रकाशित किए जाने के बाद जिले की डीएम नेहा शर्मा ने गंभीरता से लिया और दिव्यांग बच्चे की मदद का आश्वासन भी दिया।

खुले में शौच जाता है दिव्यांग नीरू
फिरोजाबाद जिले के नारखी क्षेत्र के गांव राजपुर डोरसा कोटला में रहने वाला 14 वर्षीय नीरू पुत्र सत्यपाल दिव्यांग है। उसे आंखों से कुछ भी दिखाई नहीं देता है। वह चार भाई—बहन हैं। बड़ी बहन शादी योग्य है। शौच के लिए उसे खेत में जाना पड़ता है। शौच कराने के लिए नीरू को परिवार का कोई न कोई सदस्य खेत में लेकर जाता है। बाकी परिवार के सभी सदस्य भी खेत में शौैच करने जाते हैं।

दिव्यांग बच्चे ने लगाई मुख्यमंत्री से गुहार
ग्राम प्रधान और सचिव ने भी नहीं उसकी नहीं सुनी तो उसने हारकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मदद की गुहार लगाई। दिव्यांग बच्चे का कहना है कि ग्राम प्रधान और सचिव उसकी नहीं सुन रहे हैं। उनके पिता बहुत गरीब हैं। मेहनत मजदूरी करके किसी तरह उनका पालन पोषण कर रहे हैं। रहने को झोंपड़ी है और सुविधा के नाम पर कुछ भी नहीं। उन्हें प्रधानमंत्री आवास, एक शौचालय और राशन कार्ड चाहिए। जिससे उसका परिवार भली भांति जीवन यापन कर सके।

मिलेगा सरकारी योजनाओं का लाभ
डीएम नेहा शर्मा ने बताया कि दिव्यांग की हर संभव मदद की जाएगी। पात्रता की श्रेणी में आने पर प्रधानमंत्री आवास, स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय और गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करते हुए पाए जाने पर राशन कार्ड की सुविधाएं दिव्यांग बच्चे के परिवार को दी जाएंगी। संबंधित अधिकारियों को निर्देशित कर दिया गया है कि यदि दिव्यांग का परिवार मदद के लिए आता है तो उसकी हर संभव मदद की जाएगी।

 

Ad Block is Banned