युवक की हत्या के बाद शव लेने को तैयार नहीं परिजन, जानिए क्या है वजह

पोस्टमॉर्टम के बाद पुलिस शव लेकर युवक के घर पहुंची लेकिन परिजनों ने शव लेने से इंकार कर दिया। तीन दिन पहले युवक की पीट पीटकर की गई थी हत्या।

By: suchita mishra

Updated: 24 May 2018, 11:35 AM IST

फिरोजाबाद। जिले में इन दिनों यादव और ठाकुर समाज के लोग एक दूसरे के खून के प्यासे हो गए हैं। एक ओर पूर्व मंत्री ठा.जयवीर सिंह हैं तो दूसरी ओर यादव समाज के साथ सिरसागंज से विधायक हरीओम यादव खड़े हैं। पुलिस ने विधायक हरिओम यादव और उनके पुत्र समेत पांच लोगों को जेल भेज दिया है। इसके बाद से मृतक के परिजन दहशत में हैं। यहां तक कि वे पोस्टमॉर्टम के बाद युवक का शव लेने के लिए भी पोस्टमॉर्टम हाउस नहीं पहुंचे। लिहाजा पुलिस शव सौंपने के लिए उनके घर पहुंची। लेकिन उस समय परिवार के सारे पुरुष गायब मिले। घर में सिर्फ महिलाएं थीं। उन्होंने शव लेने से इंकार कर दिया। उन्होंने घर के पुरुषों की वापसी की मांग की है। इस के बाद पुलिस को शव लेकर वापस लौटना पड़ा।

मुनादी करवाई लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ
तीन दिन पहले सिरसागंज के पेंगू गढ़ी में पीट-पीटकर युवक की हत्या के बाद चले सियासी ड्रामे का खामियाजा युवक की लाश को भुगतना पड़ रहा है। इसके कारण लाश का अंतिम संस्कार भी नहीं हो सका है। परिजनों के न आने पर जब पुलिस लाश को गांव लेकर पहुंची तो परिवार की महिलाओं ने लाश लेने से इन्कार कर दिया। उनका कहना था कि पहले गायब परिवार वालों को लेकर आइए। पुलिस प्रशासन ने गांव में मुनादी करवाई, मगर कोई भी आगे नहीं आया। पुलिस को लाश लेकर वापस लौटना पड़ा।

ये था पूरा मामला
पेंगू गढ़ी निवासी 32 वर्षीय श्यामवीर की पड़ोसी गांव सेनावली के ठाकुरों ने पीट- पीटकर हत्या कर दी थी। इसके बाद गांव वाले सपा विधायक हरीओम यादव अपने पुत्र पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष विजय प्रताप के नेतृत्व में थाने पहुंचे और हंगामा किया। वे पूर्व मंत्री व भाजपा नेता जयवीर सिंह और उनके बेटे अतुल प्रताप को नामजद करने की मांग कर रहे थे। तहरीर न दिए जाने के बाद पुलिस ने सपा विधायक व भीड़ के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया और देर रात विधायक, उनके बेटे समेत पांच को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पुलिस की कार्रवाई की दहशत से परिवार वाले पोस्टमॉर्टम हाउस पर नहीं पहुंचे। पुलिस ने मृतक के भाई धर्मवीर की तहरीर पर सेनावली निवासी अंशु एवं गुड्डा पुत्रगण सत्यपाल और बंटू पुत्र गजेंद्र, सोनू पुत्र राम अवतार के खिलाफ मुकदमा दर्ज करते हुए शव का पोस्टमॉर्टम कराया।

महिलाएं मिली घर में
देर रात पुलिस शव को लेकर पेंगू गढ़ी पहुंची, लेकिन घर पर सिर्फ महिलाएं मिलीं। उन्होंने श्यामवीर का शव लेने से इंकार कर दिया। पुलिस उन्हें समझाती रही, लेकिन उन्होंने तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज करने की बात कही। करीब साढ़े चार घटे के बाद पुलिस शव को लेकर जिला अस्पताल लौट आई। फिलहाल शव को पोस्टमार्टम गृह में ही रखवाया है।

Show More
suchita mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned