VIDEO: ओलावृष्टि ने बदल दी फसलों की सूरत, बढ़ने लगी किसानों के दिल की धड़कनें

— शिकोहाबाद और मक्खनपुर में गिरे सबसे अधिक ओले, फसलों को पहुंचा नुकसान।
— टूंडला, नारखी और फिरोजाबाद में बारिश से फसलों को हुआ फायदा।

फिरोजाबाद। फिरोजाबाद में बारिश और बोलों से कहीं खुशी तो कहीं गम जैसा माहौल रहा। तेज बारिश ने किसानों को राहत दी वहीं ओलों ने फसलों को नुकसान पहुंचाया। इससे किसानों की चिंता बढ़ गईं। सबसे अधिक ओलावृष्टि शिकोहाबाद और मक्खनपुर क्षेत्र में हुई। नारखी में भी कम मात्रा में ओले गिरे। इससे सरसों और कुछ हद तक आलू की फसल को नुकसान पहुंचा है।

खेतों में बिछी सफेद चादर
मक्खनपुर व शिकोहाबाद क्षेत्र में ओलों की सड़क पर सफेद चादर बिछ गई। ओलावृष्टि देखकर किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीरें छा गई। जो फसलें गुरुवार तक लहलहा रही थीं वह ओलावृष्टि के बाद मुरझा गई। आलू व सरसों की फसल करने वाले किसान दुखी नजर आने लगे। किसानों का कहना है कि तेज बरसात के साथ ओलावृष्टि से आलू सरसों को बहुत नुकसान हुआ है। इससे आलू की पैदावार कम हो जाएगी। आलू की फसल में बरसात का पानी भी भर गया है। इससे आलू में सड़न पैदा होने की आशंका हो गई है।

इन गांवों में हुआ अधिक नुकसान
अगर आलू की फसल पक जाती तो उतना नुकसान नहीं होता। डडियामई, कटौरा, नगला बुद्ध सिंह, जसलई, जलालपुर सहित कई गांवों में ओलावृष्टि से काफी नुकसान हुआ है। ओलावृष्टि से जहां ठिठुरन बढ़ गई है। दिनभर बरसात होने के चलते लोग घरों में कैद होने के लिए मजबूर हो गए। लोग घरों में अलाव जलाकर आग सेंकते हुए नजर आए वही बेसहारा लोगों का ठंड से हाल बेहाल हो रहा था।

Show More
arun rawat
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned