पुलिस की थर्ड डिग्री से कबाड़ कारोबारी की मौत, परिजनों ने सड़क जाम कर किया बवाल, बंदूक छीन पुलिस को दौड़ाया

कबाड़ कारोबारी के घर चोरी की बाइक मिलने पर पुलिस ने दी थी थर्ड डिग्री की यातनाएं। कारोबारी हो होने लगी थीं खून की उल्टियां।

फिरोजाबाद। कबाड़ कारोबारी के यहां चोरी की बाइक मिलना ही उसका गुनाह हो गया। बताया जा रहा है कि इसको लेकर पुलिस ने कारोबारी को थर्ड डिग्री की यातनाएं दीं। इसके कारण कारोबारी की हालत बिगड़ गई। इलाज के लिए उसे अस्पताल ले जाया गया जहां उपचार के दौरान कारोबारी की मौत हो गई। परिजनों ने पुलिस पर पीट-पीटकर हत्या किए जाने का आरोप लगाते हुए हंगामा किया। बाईपास मार्ग को जाम कर दिया। इस बीच पुलिस और भीड़ की आपसी झड़प भी हुई। गुस्साए परिजनों ने बंदूक छीन कर पुलिस को दौड़ा दिया। देर रात तक हंगामा होता रहा। मामला संभालने के लिए आस-पास के थानों की पुलिस को भी मौके पर बुलाया गया।

थर्ड डिग्री से हालत बिगड़ी तो पुलिस ने भेज दिया घर
कुशवाह नगर मरघटी के पास रहने वाले 34 वर्षीय सुशील पुत्र बुद्धसेन कबाड़ कारोबारी थे। वह कबाड़ का सामान खरीदने और बेचने का काम करते थे। तीन मई को थाना उत्तर पुलिस सुशील को चोरी की बाइक के मामले में पकड़कर थाने ले गई थी। कबाड़ कारोबारी के भाई नीरज के मुताबिक पुलिस ने थाने में ले जाकर उसे थर्ड डिग्री की यातनाएं दी जिसके कारण सुशील को गंभीर चोटें आईं। उन्हें खून की उल्टियां होने लगी थीं। ज्यादा हालत खराब होते देख पुलिस ने सुनील को घर भेज दिया था।

हालत गंभीर होने के कारण जिला अस्पताल ने किया आगरा रेफर
परिजनों का कहना है कि सुशील के कान से भी खून निकल रहा था। हालत देखकर वे फौरन उन्हें जिला अस्पताल ले गए। लेकिन हालत गंभीर होने के कारण चिकित्सकों ने उन्हें आगरा रेफर कर दिया था। आगरा में उपचार के दौरान सुशील की मौत हो गई। इसके बाद परिवारीजन देर शाम शव लेकर फिरोजाबाद पहुंचे और बाईपास रोड पर शव रखकर जाम लगा दिया।

पुलिस से भीड़ हुई धक्का-मुक्की
जाम की सूचना पर थाना उत्तर पुलिस के अलावा एसपी सिटी राजेश कुमार, सीओ सिटी डाॅ. अरूण कुमार समेत काफी संख्या में पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गया। पुलिस ने जबरन शव हटाने का प्रयास किया तो परिजनों ने हंगामा करते हुए पुलिसकर्मियों पर हमला बोल दिया। शहर विधायक मनीष असीजा ने मौके पर पहुंचकर पोस्टमार्टम की फोटोग्राफी कराए जाने का आश्वासन देकर जाम खुलवाया।

मुआवजे की कर रहे थे मांग
मृतक के परिवारीजन सुनील की मौत पर मुआवजे की मांग कर रहे थे। इस दौरान शव न मिलने पर भीड़ ने पुलिसकर्मियों से उनकी बंदूक छीनकर उन्हें दौडा दिया। देर रात तक बाईपास पर सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस फोर्स तैनात रहा।

Show More
suchita mishra
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned