यहां हर साल जून में होते हैं मातारानी को पीरियड्स, प्रसाद में मिलता है रक्त से भीगा कपड़ा

यहां हर साल जून में होते हैं मातारानी को पीरियड्स, प्रसाद में मिलता है रक्त से भीगा कपड़ा
kamakhya devi firozabad

suchita mishra | Updated: 25 Jun 2018, 01:16:54 PM (IST) Firozabad, Uttar Pradesh, India

पीरियड्स के दौरान मंदिर के कपाट बंद रखे जाते हैं। एक दिन के लिए कपाट खुलते हैं उस दिन अम्बुवाची महोत्सव मनाया जाता है।

फिरोजाबाद। हर मंदिर की अपनी अलग कहानी होती है। फिरोजाबाद के जसराना में स्थित मां कामाख्या के देवी मंदिर की भी अपनी खास कहानी है। यहां हर साल जून के महीने में मातारानी को माहवारी होती है। इसके उपलक्ष्य में अम्बुवाची महोत्सव का भव्य आयोजन किया जाता है। बताया जाता है कि जो भी श्रद्धालु इस दिन मां के दर्शन करता है। उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। देवी मंदिर के दर्शन करने के लिए आज सुबह से ही मंदिर पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी।

जसराना में स्थित है मां का मंदिर
जसराना में स्थित मां कामाख्या देवी के मंदिर की अनोखी कहानी है। इस मंदिर में विराजमान मां कामाख्या साल में एक दिन विशेष रूप से दर्शन देती हैं। बताया जाता है कि भगवान शिव की पत्नी सती के शरीर के विभिन्न अंग अलग-अलग स्थानों पर गिरे थे। इन स्थानों पर शक्तिपीठ का निर्माण किया गया। उनकी योनि असम में गिरी थी जहां कामाख्या देवी मंदिर बनाया गया। उसी मंदिर की तर्ज पर फिरोजाबाद के जसराना में भी इस कामाख्या देवी का मंदिर बनाया गया है। इस मंदिर में स्थापित देवी को हर साल जून के महीने में तीन दिन तक माहवारी पीड़ा होती है। उनकी सेवा के लिए सात महिलाओं की टीम को लगाया जाता है। जो सात दिनों तक मां के साथ रहकर उबला भोजन करती हैं। तीन दिन तक मंदिर के कपाट बंद रहते हैं। उसके बाद एक दिन के लिए मंदिर को दर्शनों के लिए खोला जाता है।

सफेद वस्त्र से ढंकी रहती हैं मां
बताया जाता है कि तीन दिन माहवारी के दौरान सफेद कपड़े से मां को ढंका जाता है। जिसमें रक्त के छींटे आते हैं। इस कपड़े को प्रसाद के तौर पर श्रद्धालुओं को बांटा जाता है। मां की सेवा के लिए विभिन्न जिलों से महिलाएं आती हैं। आज अम्बुवाची महोत्सव के तहत सुबह से ही मां के कपाट खोले गए।

सुबह से ही लगी रही श्रद्धालुओं की भीड़
मां कामाख्या देवी के दर्शनों के लिए आज सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रही। दिन निकलते ही श्रद्धालु मंदिर के बाहर लाइन में लग गए। एक के बाद एक करके श्रद्धालुओं की लाइन बढ़ती चली गई। मां के दर्शनों के लिए पहुंचे श्रद्धालुओं के मन में मां के दर्शनों को लेकर उमंग दिखाई दी। श्रद्धालुओं का कहना है कि मां की महिमा अपरंपार है। इस मंदिर में जो भी श्रद्धालु सच्चे मन से मां कर पूजा अर्चना करता है। उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned