जिस टंकी का पानी पी रहा था रेल कर्मचारियों का परिवार उसमें मरे पड़े थे इतने बंदर कि देखकर मच गया हड़कंप, देखें वीडियो

- दुर्गंध आने पर कराई गई टंकी की सफाई, टूंडला में यज्ञशाला मंदिर के सामने बनी टंकी का मामला, लोगों ने किया अधिकारियों का घेराव।

By: arun rawat

Published: 21 May 2019, 12:22 PM IST

फिरोजाबाद। रेल अधिकारियों की लापरवाही का खामियाजा रेल कर्मचारियों के परिवार को भुगतना पड़ता। गनीमत रही कि समय रहते कर्मचारियों ने अधिकारियों को मामले से अवगत कराया। तब जाकर टंकी की सफाई कराई गई। जिस पानी की टंकी से रेलवे कॉलोनी में पानी की सप्लाई की जा रही थी। उसके अंदर आधा दर्जन से अधिक बंदर मृत अवस्था में पड़े मिले पाए गए।

 

 

डेढ़ वर्ष पहले बनी थी टंकी
न्यू रेलवे काॅलोनी में यज्ञशाला के सामने करीब डेढ़ वर्ष पूर्व पानी की टंकी रेल अधिकारियों द्वारा बनवाई गई थी। इसका उद्देश्य रेलवे काॅलोनियों में पानी की आपूर्ति कराना था। विगत कई दिनों से रेल कर्मचारियों का परिवार इस पानी को पीकर अपनी प्यास बुझा रहा था। दो दिन से पानी में दुर्गंध आ रहा थी। इसकी शिकायत रेल कर्मियों ने उच्चाधिकारियों से की लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

दुर्गंध आने पर हुई जानकारी
पानी से अधिक दुर्गंध आने पर रेल कर्मियों के परिवारीजनों ने हंगामा कर दिया। उसके बाद कर्मचारियों को टंकी की सफाई करने के लिए भेजा गया। टंकी में सफाई के दौरान एक बंदर का शव निकला। जिसे देखकर रेल कर्मचारियों का परिवार हैरान रह गया। आनन-फानन में बंदर के शव को कर्मचारी दूर ले गए, जिससे वहां कोई हंगामा न हो। इस मामले में रेल कर्मियों का कहना है कि अधिकारियों की लापरवाही से किसी की जान भी जा सकती थी। दूषित पानी पीने से उनके परिवार को इंफेक्शन भी हो सकता था। टंकी शुरू होने के बाद से लेकर आज तक इसकी सफाई नहीं कराई गई।

अधिकारियों का किया घेराव
देर रात रेलवे कॉलोनी की महिलाओं ने अधिकारियों का घेराव कर प्रदर्शन किया। उन्होंने आश्वासन दिया कि टंकी की पूरी तरह से सफाई की समस्या का समाधान कराया जाएगा। इस मामले को लेकर एईएन आरएस टैगोर का कहना है कि जानकारी मिलने पर टंकह की सफाई कराई गई है। बंदर टंकी में गिरकर मर गए तो इसमें हम क्या कर सकते हैं।

Show More
arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned