सहकारी बैंक में खाताधारक पाई—पाई को तरसे, जानिए क्यों!

सहकारी बैंक में खाताधारक पाई—पाई को तरसे, जानिए क्यों!
man get 500 rs note

Abhishek Saxena | Updated: 06 Dec 2016, 10:46:00 AM (IST) Firozabad, Uttar Pradesh, India

पीएम नरेंद्र मोदी की नोटबंदी अभियान को एक महीना पूरा होने वाला है।

फिरोजाबाद। पीएम नरेंद्र मोदी की नोटबंदी अभियान को एक महीना पूरा होने वाला है। पांच सौ हजार के नोट बैन होने के बाद सबसे बड़ा असर सहकारी बैंकों में देखने को मिल रहा है। सहकारी बैंकों में नोटबंदी का फैसला होने से करोड़ों रुपये का खाद बीज गोदामों में ही अटक गया है। वहीं खाताधारक की रकम भी फंस गई है। लोग पैसे नहीं निकाल पा रहे हैं। सहकारी समितियों को अभी तक नए नोट नहीं मिले हैं, जिससे किसानों के साथ लेन—देन नहीं हो पा रहा है। खाता धारक पाई—पाई को तरस रहे हैं और बैंकों के चक्कर लगा रहे हैं। बैंक अधिकारियों ने आरबीआई को नए नोट के लिए पत्र लिखा है, लेकिन अभी तक नए नोट नहीं पहुंचे हैं

जनपद में हैं 14 शाखाएं
बता दें कि जनपद फिरोजाबाद में जिला सहकारी बैंक की 14 शाखाएं हैं, वहीं 82 समितियां हैं। यहां करीब दो लाख किसान जुड़े हैं। इन किसानों को खाद और बीज के लिए कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। इसके साथ छोटे लेन के लिए भी लोग मजबूर हो रहे हैं। बैंक में पैसा न होने से न वितरण हो पा रहा है न वसूली हो रही है। पिछले एक महीने से यही स्थिति है। बता दें कि किसानों के लिए सहकारी बैंकों में 21 हजार करोड़ रुपया देने की बात सरकार ने की थी। लेकिन अभी तक कोई रुपया नहीं मिल सका है। 

बस इंतजार में बैंक
जिला सहकारी बैंक शाखा शिकोहाबाद मंडी के शाखा प्रबंधक राजीव यादव ने बताया कि किसानों को लेन देन की परेशानी हो रही है। नए नोट आए नहीं हैं और पुराने नोट से काई काम नहीं हो सकता है।। वहीं छोटे—छोटे खाताधारकों को भी पैसा नहीं मिल पा रहा है। आरबीआई को नए नोट के लिए अधिकारियों ने पत्र लिखा है, लेकिन अभी तक कोई पैसा नहीं आया है। राष्ट्रीयकृत बैंकों द्वारा कोई मदद नहीं की जा रही है। जिससे किसान और खाताधारक को परेशानी हो रही है। रोजाना सैकड़ों खाताधारक बैंकों के चक्कर लगा रहे हैं। 
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned