शहरों के बाद अब गांवों में चढ़ी योग की खुमारी

suchita mishra

Publish: Sep, 16 2017 12:42:30 (IST) | Updated: Sep, 16 2017 12:51:11 (IST)

Firozabad, Uttar Pradesh, India
शहरों के बाद अब गांवों में चढ़ी योग की खुमारी

पतंजलि योग समिति हरिद्वार के तत्वाधान में अब ग्रामीणों को योग के प्रति जागरुक किया जा रहा है।

फिरोजाबाद। विश्व योग दिवस पर एक दिन भले ही लोग योग करते नजर आते हों लेकिन अब गांवों में भी लोगों को योग के प्रति जागरूक किया जा रहा है। पतंजलि योग समिति हरिद्वार के तत्वाधान में गांव-गांव जाकर ग्रामीणों को योग के प्रति जागरूक किया जा रहा है। इसके लिए कुछ दिन योग सिखाने के बाद गांव के ही किसी व्यक्ति को आगे योग कराने की जिम्मेदारी दी जाती है।

 

करो योग रहो निरोग
पतंजलि योग समिति द्वारा जिले की पांचों विधानसभाओं में प्रभारी नियुक्त किए गए हैं। प्रत्येक प्रभारी अपने-अपने क्षेत्र के गांवों में जाकर ग्रामीणों को योग के प्रति जागरूक करता है। करीब एक सप्ताह तक योग प्रशिक्षकों द्वारा गांवों में योग शिविर लगाए जाते हैं। इन योग शिविरों में किसी एक व्यक्ति को विशेष प्रशिक्षण दिया जाता है। उसी व्यक्ति को आगे योग कराने की जिम्मेदारी दी जाती है।

सुबह होते ही गांवों की पगडंडियों पर होता है योग
सुबह जागते ही जो लोग चौपाल लगाकर बैठते थे, अब वे युवाओं और बच्चों को अपने पास बिठाकर योग सिखाते नजर आते हैं। वर्तमान में करीब दो दर्जन गांवों में योग का कार्यक्रम शुरू हो गया है। सुबह साढे पांच बजे से लेकर सात बजे तक योग शिविर चलता है। इसमें देर से आने वाले लोग भी कुछ देर योग करने के बाद ही अपने काम पर जाते हैं।

लोगों में योग चेतना का विस्तार करना है मकसद
पंतजलि योग समिति के जिला प्रचारक पवन कुमार आर्य का कहना है कि योग शिविर का उद्देश्य लोगों को योग से होने वाले लाभ बताकर उन्हें स्वस्थ रखना है। उन्होंने कहा कि योग ही एक मात्र ऐसा उपाय है जिसके द्वारा निरोगी रहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति प्रतिदिन योग करेगा उसे कभी चिकित्सक के पास जाने की जरूरत नहीं होगी। नियमित योग निरोगी काया की पहचान है। जब तक योग को घर-घर तक नहीं पहुंचा दिया जाएगा, तब तक पतंजलि योग, समिति योग प्रशिक्षण शिविर लगाकर जागरूक करने का काम करती रहेगी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned