बारिश में बह गए बेटी की शादी के अरमान, किसी को चुकाना था कर्ज तो किसी को बनवाना था मकान

— किसी को चुकाना था कर्ज तो किसी को बनवाना था मकान, बारिश से गेहूं, सरसों और आलू की फसल को भारी नुकसान

By: arun rawat

Published: 07 Mar 2020, 01:13 PM IST

फिरोजाबाद। मूसलाधार बारिश किसानों के लिए आफत लेकर आई। बेटी की शादी के ख्वाब देख रहे पिता के अरमानों पर बारिश ने पानी फेर दिया। कहीं किसान आलू की फसल में भरे पानी को निकालने में जुट थे तो कहीं भीगी सरसों की फसल को सुखाने में। हर ओर एक सा ही नजारा था। किसी की आंखें नम थी तो कोई दर्द को सीने में छुपाए बैठा था। पत्रिका ने जब नुकसान का आंकलन किया तो इस दर्द से हर कोई पीड़ित मिला।

मई में होनी है बेटी की शादी
टूंडला तहसील क्षेत्र के नगला अजीत के रहने वाले राजकुमार बघेल पुत्र खुन्नीलाल की बेटी की शादी मई माह में होनी है। आलू बेचकर बेटी के हाथ पीले करने का सपना देखा। पूरा करने के लिए करीब 30 बीघा खेत में आलू किया, अभी आलू की खुदाई शुरू ही कराई थी कि बारिश ने सबकुछ बर्बाद कर दिया। बारिश और ओलों से आलू हरा और दागदार हो गया। बाजार में उसकी कीमत भी न के बराबर रह जाएगी। बैंक का कर्ज भी इसी आलू की फसल के सहारे चुकाने की तैयारी थी लेकिन अब वह यह सोचकर परेशान हैं कि किस तरह बेटी का कन्यादान होगा और बैंक का कर्ज चुक सकेगा।

चुकाना था बैंक का कर्ज
नारखी निवासी मोहनलाल ने बताया कि बैंक से लोन लेकर सरसों की फसल तैयार की थी, सोचा था कि सरसों बेचकर बैंक का कर्ज चुका देंगे लेकिन तेज बारिश ने उनके सपनों को चकनाचूर कर दिया। पीतांबर सिंह ने बताया कि खेत में सरसों की है, तेज हवा और बारिश के चलते फली से सरसों निकलकर खेत में गिर गई। नगला सिंघी क्षेत्र के आनंद कुमार ने बताया कि खेतों में पानी भर जाने के कारण आलू जमीन से बाहर निकल आया, अब धूप निकलने से आलू खराब होने की आशंका भी बढ़ गई है। रसूलाबाद के साहब सिंह और मूंगाराम ने गेहूं की फसल की है। अच्छी हुई फसल को देखकर वह दोनों काफी खुश नजर आ रहे थे लेकिन बारिश और तेज हवा के साथ आए ओलों ने गेहूं की बालों को गिरा दिया। इससे फसल में उन्हें नुकसान हुआ है।

Show More
arun rawat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned