VIDEO: वट वृक्ष की पूजा अर्चना को लेकर महिलाओं ने दिया बड़ा जवाब, सुनकर हैरान रह गए लोग

VIDEO: वट वृक्ष की पूजा अर्चना को लेकर महिलाओं ने दिया बड़ा जवाब, सुनकर हैरान रह गए लोग
amavasya

arun rawat | Updated: 03 Jun 2019, 02:11:57 PM (IST) Firozabad, Firozabad, Uttar Pradesh, India

— सुहागनगरी में बड़ी धूमधाम से मना वर अमावस्या का पर्व, पति की लंबी आयु को लेकर महिलाओं ने की पूजा अर्चना।

फिरोजाबाद। ज्येष्ठ मास की अमावस्या के दिन महिलाएं पति की लंबी आयु की कामना को लेकर पूजा अर्चना करती हैं। पति की लम्बी आयु के लिये सुहागिनों ने आज के दिन वट वृक्ष की पूजा अर्चना की। इसी परम्परा को आगे बढ़ाते हुए फिरोजाबाद की महिलाओं ने भी ये पूजा की। वट वृक्ष को आम, लीची सरीखे मौसमी फल अर्पित किये गये। कच्चे सूत से बांधने और बियेन (हथ पंखा) से ठंडक पहुंचाने के बाद महिलाओं ने आस्था के साथ इसकी परिक्रमा की। पूजा के बाद वट सावित्री कथा भी सुनी जाती है। ज्येष्ठ मास के आमावस्या के दिन पड़ने वाले इस पर्व मे सुहागिन महिलाओं ने पुजा की थाली सजाकर वट वृक्ष की बारह बार परिक्रमा करते हुए फल फूल चढ़ाकर सुख समृद्धि और पति की लंबी आयु की कामना की।

 

 

 

 

दुल्‍हन की तरह सजीं सुहागनें
इस व्रत की पूजा के लिए विवाहित महिलाओं को बरगद के पेड़ के नीचे पूजा की। सभी सुहागनें सोलह श्रंगार कर दुल्‍हन की तरह सज धज कर हाथों में प्रसाद लेकर पूजा अर्चना करने पहुंची। प्रसाद के रूप में थाली में गुड़, भीगे हुए चने, आटे से बनी हुई मिठाई, कुमकुम, रोली, मोली, 5 प्रकार के फल, पान का पत्ता, धुप, घी का दीया, एक लोटे में जल और एक हाथ का पंखा लेकर बरगद पेड़ के नीचे पहुंची। विवाहिता पूनम देवी ने बताया कि आज के दिन सावित्री ने अपने पति के प्राणों को यमराज से छुड़वा लिया था। इस व्रत के तपोबल के आगे यमराज भी हार गए थे।

व्रत का महत्‍व
इस व्रत में बरगद के पेड़ की पूजा की जाती है। कहते हैं कि इसी पेड़ के नीचे स‍ावित्री ने अपने पति को यमराज से वापस पाया था। सावित्री को देवी का रूप माना जाता है। हिंदू पुराण में बरगद के पेड़े में ब्रह्मा, विष्णु और महेश का वास बताया जाता है। यह माना जाता है कि ब्रह्मा जी वृक्ष की जड़ में, विष्णु इसके तने में और शि‍व उपरी भाग में रहते हैं। यही वजह है कि इस पेड़ के नीचे बैठकर पूजा करने से हर मनोकामना पूरी होती है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned