आईएसएल चैम्पियन बनने के बाद एटीके कोच हबास बोले, मैदान पर दर्शकों जैसा माहौल बनाए रखा

ATK इकलौती टीम है, जिसने तीन बार ISL खिताब जीता है। इससे पहले वह 2014 और 2016 में भी विजेता बन चुकी है।

Mazkoor Alam

15 Mar 2020, 03:27 PM IST

फातोर्दा : एटीके (ATK) को दो बार इंडियन सुपर लीग (ISL) का खिताब जिताने वाले पहले कोच बने एंटोनियो हबास ने अपनी टीम की जीत पर खुशी जाहिर की और कहा कि बंद दरवाजों के बीच खाली स्टेडियम में खेले गए फाइनल में उन्हें अपने खिलाड़ियों के लिए मैदान पर दर्शकों जैसे माहौल बनाना था, ताकि वह खिलाड़ियों को प्रेरित कर सकें।

पराग्वे में ब्राजील के दिग्गज फुटबॉलर रोनाल्डिन्हो गिरफ्तार, जाली पासपोर्ट पर घुसने का आरोप

तीसरी बार आईएसएल जीतने वाली पहली टीम बनी एटीके

जेवियर हनार्डीज के बेहतरीन दो गोल की मदद से एटीके की टीम तीसरी बार आईएसएल विजेता बनी। ऐसा करने वाली वह पहली टीम है। एटीके ने आईएसएल के छठे सीजन के फाइनल में शनिवार को दो बार की चैंपियन चेन्नइयन एफसी को 3-1 से मात देकर इतिहास रच दिया। इस मैच में एटीके की ओर से 10वें और 93वें मिनट में जेवियर हनार्डीज ने तथा 48वें मिनट में इदु गार्सिया ने गोल किया। वहीं चेन्नइयन की ओर से सिर्फ नेरीजूस वाल्सकिस ही 69वें मिनट में गोल कर सकें।

फुटबॉल : दो नवंबर से शुरू होगा फीफा अंडर-17 महिला विश्व कप, पहली बार हो रहा है भारत में आयोजित

कोटाल बोले, चैम्पियन बनना ही हमारा मकसद था

मैच के बाद संवादददाता सम्मेलन में एटीके कोच हबास ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण यह मैच बिना दर्शकों के खेला गया। ऐसी स्थिति में आपको टीम का सपोर्ट करना होता है। उनकी कोशिश थी कि इस मैच में मैदान पर दर्शकों जैसा माहौल बनाए रखा जाए। क्योंकि इस वक्त खिलाड़ियों का ध्यान और प्रेरणा अलग था। वहीं एटीके के खिलाड़ी प्रीतम कोटाल ने कहा कि चैंपियंन बनकर उनकी टीम काफी अच्छा महसूस कर रही है। उनका एक ही मकसद था। चैंपियन बनना।

बता दें कि एटीके का यह तीसरा आईएसएल खिताब है। वह आईएसएल की एकमात्र टीम है, जिसने यह खिताब तीन बार जीता है। इससे पहले वह 2014 और 2016 में भी विजेता बन चुकी है।

Show More
Mazkoor Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned