Football : दोस्ताना मुकाबले में जॉर्डन ने भारत को 2-1 से हराया

Football : दोस्ताना मुकाबले में जॉर्डन ने भारत को 2-1 से हराया

Siddharth Rai | Publish: Nov, 18 2018 08:56:11 AM (IST) | Updated: Nov, 18 2018 08:56:12 AM (IST) फ़ुटबॉल

छेत्री चोटिल होने के कारण इस मैच में नहीं खेल पाए। उनकी कमी भारत को इस मैच में निश्चित खलती हुई दिखी। उनके स्थान पर गोलकीपर गुरप्रीत सिंह को कप्तान बनाया गया था जिन्होंने अपनी दोनों जिम्मेदारियों को बखूबी निभाया, लेकिन किस्मत से कहीं न कहीं मात खा गए। मैच की शुरुआत ही भारत के लिए बुरी रही। आठवें मिनट में ही जॉर्डन को पेनाल्टी मिली। भारतीय डिफेंडर ने जॉर्डन के अल बाखित को पेनाल्टी एरिया में गिरा दिया और रेफरी ने तुरंत मेजबान टीम को पेनाल्टी दी, लेकिन गुरप्रीत ने जॉर्डन को खुश नहीं होने दिया।

नई दिल्ली। जॉर्डन फुटबाल टीम ने शनिवार देर रात यहां किंग अबदुल्लाह अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम में खेले गए दोस्ताना मुकाबले में अपने स्टार खिलाड़ी सुनील छेत्री के बिना उतरी भारत को 2-1 से हरा दिया। यह दोनों देशों के लिए बीच पहला फुटबाल मैच था जहां भारत को कड़ी मशक्कत के बाद हार का सामाना करना पड़ा। छेत्री चोटिल होने के कारण इस मैच में नहीं खेल पाए। उनकी कमी भारत को इस मैच में निश्चित खलती हुई दिखी। उनके स्थान पर गोलकीपर गुरप्रीत सिंह को कप्तान बनाया गया था जिन्होंने अपनी दोनों जिम्मेदारियों को बखूबी निभाया, लेकिन किस्मत से कहीं न कहीं मात खा गए। मैच की शुरुआत ही भारत के लिए बुरी रही। आठवें मिनट में ही जॉर्डन को पेनाल्टी मिली। भारतीय डिफेंडर ने जॉर्डन के अल बाखित को पेनाल्टी एरिया में गिरा दिया और रेफरी ने तुरंत मेजबान टीम को पेनाल्टी दी, लेकिन गुरप्रीत ने जॉर्डन को खुश नहीं होने दिया।

बानी अतिहा ने पेनाल्टी ली और गेंद को बाएं कोने में डालने का प्रयास किया जिसे भारतीय गोलकीपर ने रोक मेजबान टीम को मायूस कर दिया। हालांकि गुरप्रीत की हल्की सी लापरवाही ही जॉर्डन को बढ़त दिलाने वाली साबित हुई। जॉर्डन के गोलकीपर और कप्तान अमेर साफी को किक लेने का मौका मिला। उन्होंने देखा कि गुरप्रीत गोलपोस्ट के काफी दूर हैं। उन्होंने अपनी पूरी ताकत से किक लगाई और गेंद एक बाउंस लेकर गुरप्रीत के सिर के ऊपर से होते हुए नेट में चली गई और इस तरह मेजबान टीम 25वें मिनट में एक गोल से आगे हो गई।

31वें मिनट में बाखित के पास गोल करने का एक और मौका था जिसे प्रीतम कोटाल ने रोक लिया। भारत भी हालांकि गोल खाने के बाद हताश नहीं हुई थी और लगातार कोशिश में लगी थी। भारत के छह-सात खिलाड़ी हमेशा बॉक्स के पास ही रह रहे थे। पहले हाफ का अंत आते-आते जॉर्डन ने गोल करने के एक-दो मौके और बनाए जो जाया चले गए। भारतीय कोच स्टीफन कांस्टेनटाइन में दूसरे हाफ में बदलाव किया और जैरी लालरिनजुआला के स्थान पर आशिके कुरियन को मैदान पर भेजा।

जॉर्डन आत्मविश्वास से भरी थी। दूसरे हाफ के शुरुआती मिनटों में ही उसने कुछ लगातार प्रहार किए जिन्हें गुरप्रीत ने विफल कर दिया, लेकिन 58वें मिनट में भारतीय कप्तान विफल हो गए और जॉर्डन 2-0 से आगे हो गई। 59वें मिनट में भारत को कॉर्नर मिला जिस पर वो गोल नहीं कर पाईं और यहीं जॉडर्न ने काउंटर मारा। गेंद भारतीय खिलाड़ी समीर के पास से एहसान हदाद के पास आई जो गेंद को लेकर आगे बढ़े और गुरप्रीत को मात देते हुए अपनी टीम का दूसरा गोल कर ले गए। तीन मिनट बाद नीशू कुमार ने भारत का खाता खोल उसकी उम्मीदों वापसी की उम्मीदों को जिंदा कर दिया। 59वें मिनट में जैकीचंद सिंह के स्थान पर मैदान पर आए नीशू के पास जर्मनप्रीत सिंह ने गेंद पहुंचाई। नीशू को सिर्फ गोलकीपर को ही छकाना था जो उन्होंने आसानी से अपने पैर से उनके ऊपर से गेंद निकल कर दिया।

स्कोर अभी भी जॉर्डन के पक्ष में 2-1 था। मैच का समय खत्म हो रहा था और आखिरी पलों में दोनों टीमों ने कुछ बदलाव किए। 84वें मिनट में जॉर्डन के अयेद ने मौका बनाया जिसे गुरप्रीत ने मुकम्मल नहीं होने दिया। 90वें मिनट में भारत को कॉर्नर मिला और उसके पास बराबरी करने का मौका आया, लेकिन खराब किक और जगह पर खिलाड़ी न होने के कारण यह मौका भी उसके हाथ से निकल गया।

Ad Block is Banned