यूरोपीय चैम्पियंस लीग : टॉटेनहम को हराकर लिवरपूल बना चैम्पियन, मैड्रिड और बार्सिलोना का तोड़ा वर्चस्व

यूरोपीय चैम्पियंस लीग : टॉटेनहम को हराकर लिवरपूल बना चैम्पियन, मैड्रिड और बार्सिलोना का तोड़ा वर्चस्व

Mazkoor Alam | Publish: Jun, 02 2019 04:47:10 PM (IST) | Updated: Jun, 02 2019 04:47:11 PM (IST) फ़ुटबॉल

  • लिवरपूल को 14 साल बाद मिली खिताबी जीत
  • छठी खिताबी जीत के साथ चैम्पियंस लीग में पहुंचा तीसरे नंबर पर
  • सबसे ज्यादा 13 बार रियल मैड्रिड ने जीता है खिताब

मैड्रिड : जुर्गेन क्लॉप की कोचिंग में इंग्लिश फुटबॉल क्लब लिवरपूल ने हमवतन फुटबॉल क्लब टॉटेनहम हॉटस्पर को 2-0 से हराकर 14 साल बाद यूरोपीय चैम्पियंस लीग का खिताब जीता। लीग में लिवरपूल की यह छठीं खिताबी जीत है। फाइनल में लिवरपूल की ओर से मोहम्मद सलाह और डिवोक ओरिगी ने गोल मारकर जीत में अहम भूमिका निभाया, जबकि टॉटेनहम हॉटस्पर की ओर से कोई खिलाड़ी गोल ने कर सका।

ये भी पढ़ें : कोपा डेल रे : लगातार पांचवीं बार खिताब जीतने से चूका बार्सिलोना, वेलेंसिया ने 2-1 से हराया

लिवरपूल ने पहले मिनट में ही बनाई बढ़त

इस मैच में चोट से उबर कर हैरी केन और रोबटरे फिर्मिनो ने लिवरपूल की टीम में वापसी की। लिवरपूल की शुरुआत दमदार रही। पहले मिनट में ही उसने पेनाल्टी हासिल कर लिया। 18 गज के बॉक्स में सादियो माने ने अपने साथी को पास देने की कोशिश की। गेंद जाकर हॉटस्पर के मिडफील्डर मूसा सिसोको के हाथ में लगी और रेफरी ने पेनाल्टी दे दी। पेनाल्टी का पूरा फायदा उठाते हुए सलाह ने गेंद को गोल में डालकर अपनी टीम को 1-0 की बढ़त दिला दी।
हालांकि पहले मिनट में ही गोल हो जाने के बाद भी दोनों टीमों ने तेजी नहीं दिखाई और गोल करने के लिए अतिरिक्त प्रयास नहीं किया।

ये भी पढ़ें : किंग्स कप के लिए भारतीय टीम की घोषणा

दूसरे हाफ में लिवरपूल ने की बढ़त दोगुनी

दूसरे हाफ की शुरुआत से टॉटेनहम ने आक्रामक रुख अपनाया। लेकिन दोनों टीमें गोल करने में सफल नहीं हुई। मैच खत्म होने से तीन मिनट पहले 87वें मिनट में दूसरे हाफ में स्थानापन्न के रूप में उतरे ओरिगी ने बॉक्स के अंदर से गोल कर लिवरपूल की बढ़त दोगुनी कर दी और करीब-करीब जीत सुनिश्चित कर दी।

ये भी पढ़ें : गूगल ने दुनियाभर के यूजर्स को भेज दिया विराट कोहली का संदेश, मांगनी पड़ी माफी

सात साल बाद किसी इंग्लिश क्लब ने जीता खिताब

लिवरपूल की यह जीत इसलिए भी ऐतिहासिक है, क्योंकि उसने 14 साल बाद इस खिताब पर कब्जा किया है। इससे पहले वह 1977, 1978, 1981, 1984, और 2005 में चैम्पियन बना है। सात साल बाद किसी इंग्लिश क्लब ने यह खिताब जीता है। इससे 2012 में चेल्सी ने इस लीग की चैम्पियन बनी थी। इसके अलावा एक और अहम बात यह कि ऐसा मौका 11 साल बाद आया कि जब यूरोपीय चैम्पियंस लीग के फाइनल में दो इंग्लिश क्लब आमने-सामने थी। इससे पहले 2008 में चेल्सी और मैनचेस्टर यूनाइटेड क्लब के बीच फाइनल हुआ था। इसमें मैनचेस्टर यूनाइटेड क्लब ने जीत हासिल की थी।

ये भी पढ़ें : विश्व कप क्रिकेट : आस्ट्रेलिया ने अफगानिस्तान को 7 विकेट से हराया, वार्नर व फिंच ने खेली शानदार अर्धशतकीय पारी

खिताब जीतने के मामले में लिवरपूल पहुंचा तीसरे पर

यूरोपीय चैम्पियंस लीग के फाइनल में लिवरपूल ने पिछले साल भी जगह बनाई थी, लेकिन स्पेन की दिग्गज टीम रियल मेड्रिड ने उसे हरा दिया था। रियल ने चैम्पियंस लीग खिताब सबसे अधिक 13 बार जीता है, जबकि एसी मिलान के खाते में सात बार यह टाइटल गया है। इस बार की खिताबी जीत के साथ लीवरपूल तीसरे नंबर पर आ गया है। उसने बायर्न म्यूनिख और एफसी बार्सिलोना (दोनों 5-5) को पीछे छोड़ा।
इस बार चैम्पियन लीग की खास बात यह भी रही कि लगातार पिछले पांच साल से चले आ रहे रियल मैड्रिड और एफसी बार्सिलोना के दबदबे को भी उसने तोड़ दिया। पिछले पांच साल से यही दोनों खिताब पर कब्जा जमाती आ रही थीं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned