scriptCorona disaster snatches the employment of the working class | कोरोना आपदा ने छीने श्रमिक वर्ग के रोजगार | Patrika News

कोरोना आपदा ने छीने श्रमिक वर्ग के रोजगार

विश्व मजदूर दिवस विशेष

गाडरवारा

Published: May 01, 2020 05:11:35 pm

गाडरवारा-पनारी। कोरोना वायरस आपदा ने हर वर्ग के रोजगार पर असर डाला है। लेकिन बाहर काम करने वाला श्रमिक वर्ग इस आपदा से सबसे बुरी तरह प्रभावित हुआ है। कोराना आपदा ने न केवल इनकी रोजी रोटी का जरिया छीन लिया, वहीं इनमें से अनेक मजदूरों को मशक्कत करते हुए गांव वापस आने को मजबूर होना पड़ा है। गांव आने के बाद अब इनके सामने आने वाले दिनों में परिवार के भरण पोषण एवं रोजी रोटी का बड़ा सवाल मुंह बाए खड़ा है। एक मई विश्व मजदूर दिवस के मौके पर पत्रिका ने ग्रामीण क्षेत्र के ऐसे ही कुछ श्रमिकों से बात की तो उन्होंने अपनी परेशानी बताई।
ग्राम पनारी के मूल निवासी धीरज मालवीय लकड़ी फर्नीचर का निर्माण कार्य करने के लिए विगत 10 सालों से इंदौर के शिक्षक नगर में निवास कर अपने परिवार का पालन कर रहे थे। कोरोना महामारी के चलते एक माह से ज्यादा समय हो गया, तबसे गांव आने के बाद काम धंधा बिल्कुल बन्द हो गया है। वहां इनके पास जो कुछ भी खाने पीने का सामान, राशन आदि था। वह मात्र 10-12 दिनों में वो भी खत्म हो गया। इससे परेशान हो गए तो किसी भी तरह कुछ पैदल कुछ ट्रक से चलकर घर आ गए। इनका एक छोटा पांच साल का बच्चा भी है जो केजी वन में पढ़ता है। धीरज ने बताया इंदौर में कोरोना को लेकर एवं रुपए न होने से मन में बहुत डर भी था, लगता था कैसे भी अपनों के पास घर तक पहुंच जाएं। आगे के बारे में कहा पेट पालने के लिए अब दोबारा जाना तो पड़ेगा। क्योंकि गांव में काम भी नही है और मजदूरी भी कम मिलती है। लेकिन जब तक स्थिति पूरी तरह से नही सुधरती तब तक नही जाएंगे। इसी प्रकार गांव का रशीद खान भोपाल में राजमिस्त्री का काम करता था। वो भी लाक गत माह से घर आ गया है। इसने बताया कुछ कहा नहीं जा सकता आगे क्या होगा, कोरोना आपदा कब तक चलेगी, रोजगार न हो, लेकिन कम से कम इतना सुकून तो है कि घर पर अपनों के बीच हैं।
उक्त बाहर काम करने वालों के अलावा गांव, शहर में आटो चलाने वाले, प्राइवेट नौकरीपेशा, जलपान, चाय, पान की दुकान वालों के सामने भी रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है। विगत एक माह से आवागमन तथा दुकानें बंद हैं। वहीं पान की बिक्री नहीं होने से पान की फसल भी सडऩे लगी है। ज्ञात रहे यह छोटे रोजगार वाले एवं दुकानदार दिन भर कमाते थे और तब परिवार चलाते थे। इनको भी रोजगार की बहुत बड़ी समस्या हो गई है। उक्त लोगों का कहना है शासन ने किराना या अन्य दुकानें खोलने में छूट दे दी है, लेकिन यह गरीब वर्ग परेशान है। बहरहाल आने वाले समय में क्या होता है यह तो भविष्य में पता चलेगा, लेकिन बेरोजगारों की गांवों में तादाद बढऩे से इंकार नहीं किया जा सकता।

कोरोना आपदा ने छीने श्रमिक वर्ग के रोजगार
विश्व मजदूर दिवस विशेष

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Thailand Open: PV Sindhu ने वर्ल्ड की नंबर 1 खिलाड़ी Akane Yamaguchi को हराकर सेमीफाइनल में बनाई जगहIPL 2022 RR vs CSK Live Updates: रोमांचक मुकाबले में राजस्थान ने चेन्नई को 5 विकेट से हरायासुप्रीम कोर्ट में अपने लास्ट डे पर बोले जस्टिस एलएन राव- 'जज साधु-संन्यासी नहीं होते, हम पर भी होता है काम का दबाव'ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनCBI रेड के बाद तेजस्वी यादव ने केंद्र सरकार पर कसा तंज, कहा - 'ऐ हवा जाकर कह दो, दिल्ली के दरबारों से, नहीं डरा है, नहीं डरेगा लालू इन सरकारों से'Ola-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार के लिए भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाईHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.