शासन के आदेश की धज्जियां उड़ा रहे, जहां तहां लगे होर्डिंग

पत्रिका लगातार
नवंबर में हुई थी होर्डिंग हटाने की कार्रवाई, फिर नगर में दिखने लगे होर्डिंग

गाडरवारा। शहर में एकबार फिर से मनमाने होर्डिंंग की बाढ़ सी आ गई है। नगर के प्रमुख चौक चौराहों से लेकर जगह जगह सड़क किनारे एवं मोड़ पर कई प्रकार के होर्डिंग लगे हुए है। गौर करने लायक बात है कि न केवल सड़क किनारे ऐसे होर्डिंंग लगे है, बल्कि कई जगह तो बिजली के पोल भी विज्ञापन का जरिया बना कर उन पर भी होर्डिंग लटका दिए गए हैं। ऐसे में लोगों का कहना है कि पोल पर होर्डिंंग लगाने के पूर्व क्या बिजली विभाग की अनुमति ली जाती है एवं बिजली सुधार करने में विभाग को जाहिर तौर पर परेशानी आती होगी, इस पर विभाग द्वारा कोई कार्रवाई क्यों नहीं की जाती। दूसरी ओर नगर को अतिक्रमण से मुक्त कराने की योजना बनाई जा रही है। लेकिन वहीं नगर में लगे अवैध होर्डिंग के विरुद्ध कोई कार्रवाई नपा द्वारा क्यों नहीं की जाती।
अनेक लोगों के अनुसार जिला मुख्यालय में अवैध होर्डिंग्स के खिलाफ नगरपालिका स्तर पर कार्रवाई चलाई गई। लेकिन गाडरवारा नगर पालिका के कर्मचारियों को मुख्यमंत्री के आदेशों का पता नहीं है या फिर पता होते हुए यह उन आदेशों पर अमल नहीं करना चाहते हैं इसीलिए नगर गाडरवारा में जहां.तहां अवैध होर्डिंग्स की भरमार है। यहां तक कि विद्युत पोल पर भी अवैध होर्डिंग लगे हुए हैं। जिस पर विद्युत विभाग द्वारा भी कार्रवाई न किया जाना विचारणीय पहलू है।
बता दें कि इसके पूर्व नवंबर माह में भी नगर में ऐसे होर्डिंग के विरुद्ध पत्रिका में पांच नवंबर को होर्डिंग्स लगाने में हो रही मनमानी, जिम्मेदार भी कार्रवाई करने से कर रहे हैं गुरेज,, शीर्षक से खबर प्रकाशन के बाद नपा ने आनन फानन मेंं कार्रवाई करते हुए जहां तहां लगे होर्डिंग हटवाए थे। लेकिन समय गुजरने के साथ एकबार फिर नगर भर में चौक चौराहों से लेकर गली मुहल्लों तक ऐसे होर्डिंंग की बाढ़ सी आ गई है। दूसरी ओर शासन प्रशासन के स्पष्ट आदेश हैं कि बिना अनुमति के होर्डिंग लगाए जाना मप्र आउट डोर विज्ञापन मीडिया नियम 2017 एवं मप्र संपत्ति विरुपण अधिनियम 1994 के तहत कार्रवाई के दायरे में आएंगे। इसमें अर्थदंड एवं हटाने की कार्रवाई के साथ लापरवाही करने वाले अधिकारी के विरुद्ध भी कार्रवाई के आदेश दिए गए थे। बता दें कि सड़कों पर वाहनों की संख्या बढऩे से आए दिन राहगीरों को आवागमन में परेशानी होती है। ऐसे में सड़क किनारे लगे होर्डिंग से जहां नगर की सुंदरता प्रभावित होती है, वहीं हादसों का भय भी बना रहता है। देखने वाली बात रहेगी कि नपा द्वारा नगर में लगे बिना अनुमति के होर्डिंग के विरुद्ध क्या कार्रवाई की जाती है।

arun shrivastava Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned