परिसर में खड़ी होने के बाद भी नहीं आती 102 और 108, रास्ते में करवाना पड़ा महिला का प्रसव

परिसर में खड़ी होने के बाद भी नहीं आती 102 और 108, रास्ते में करवाना पड़ा महिला का प्रसव

Deepak Sahu | Publish: Sep, 16 2018 06:01:46 PM (IST) Gariaband, Chhattisgarh, India

रास्ते में ही ग्राम बेलर के पास मितानिन और सुईन की सूझबूझ से वाहन के अन्दर डिलवरी करानी पड़ी।

छुईहाबेलर. छत्तीसगढ़ के विकास खण्ड फिंगेश्वर के सामुदायिक स्वास्थय केन्द्र के अन्र्तगत ग्राम जोगीडीपा की प्रसव पीड़ा से जूझती गर्भवती महिला भानबाई ध्र्रुव के लिए 102 एम्बुलेंस को कॉल किया गया। लेकिन वह नहीं पहुंचा। आनन-फानन में निजी वाहन से अस्पताल पहुंचाते समय रास्ते में ही ग्राम बेलर के पास मितानिन और सुईन की सूझबूझ से वाहन के अन्दर डिलवरी करानी पड़ी। इस पूरी घटना ने प्रशासन के स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल खोल दी है।

सूचना दे दिया गया कि एंबुलेंस ही उपलब्ध नहीं है
शनिवार को ग्राम जोगीडीपा निवासी जोहत राम ध्रुव की पत्नी भानबाई को प्रसव पीड़ा हुई तो परिजन शासन से मिलने वाली 102 एम्बुलेस सुविधा को कॉल किया गया। परिजन को सुविधा देने के नाम पर घंटों इंतजार कराया और बाद में सूचना दे दिया गया कि एंबुलेंस ही उपलब्ध नहीं है। इधर गर्भवती महिला प्रसव पीड़ा से कहराती रही। हालात को देखते स्थानीय निवासी समाजिक कार्यकर्ता रमेश यादव को सूचना दी गई, इसके बाद उन्होंने अपने निजी वाहन से महिला को स्वास्थ्य केन्द्र ले गए।

READ MORE : CM रमन सिंह ने गार्डेन में झाड़ू लगाकर की साफ-सफाई, कहा - स्वच्छता को बनाएं जीवन का अनिवार्य हिस्सा

मितानिनों ने कराया प्रसव
इस दौरान रास्ते में ही बेलर के पास स्थिति अनुसार सड़क किनारे वाहन रोका गया। वहीं मितानिन मंजू सिन्हा, सुईन दाई, सुकारो बाई की सूझबूझ से सफलता पूर्वक प्रसव कराया गया। उसके बाद स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया गया। जहां डॉक्टर पीके कुदेशिया के निगरानी में जच्चा बच्चा स्वस्थ है।

102 एंव 108 एम्बुलेंस परिसर में खड़ी थी
परिजन ने बताया कि अस्पताल पहुंचने पर 102 एंव 108 एम्बुलेंस परिसर में खड़ी थी। वहीं स्वास्थ्य विभाग की ऐसी लापरवाही पहले भी हो चुकी है। जिसकी विभागीय मंत्री अजय चन्द्रकार से करने की बात की है। वहीं खंडचिकित्सा अधिकारी बीरेन्द्र हिरौदिया ने ड्राइवर के हड़ताल एंव वैकल्पिक व्यवस्था वाले ड्राइवर को पैसा नहीं मिलने पर वजह बताया गया।

Ad Block is Banned