निरीक्षण करने पहुंचे विधायक ने काले हिरणों की मौत के मामले में की डीएफओ को हटाने की मांग, जांच के आदेश

निरीक्षण करने पहुंचे विधायक ने काले हिरणों की मौत के मामले में की डीएफओ को हटाने की मांग, जांच के आदेश

Bhawna Chaudhary | Publish: May, 15 2019 11:00:00 PM (IST) Gariaband, Raipur, Chhattisgarh, India

बारनवापारा काला हिरण अनुकूलन केन्द्र का औचक निरीक्षण कर मौके पर उपस्थित अधिकारी-कर्मचारियों को हिरणों की सहीं ढंग से देखभाल करने के निर्देश दिए।

कसडोल. बिलाईगढ़ विधायक चन्द्रदेव रॉय ने सोमवार को बारनवापारा काला हिरण अनुकूलन केन्द्र का औचक निरीक्षण कर मौके पर उपस्थित अधिकारी-कर्मचारियों को हिरणों की सहीं ढंग से देखभाल करने के निर्देश दिए। वहीं उन्होंने यहां पिछले एक साल के दौरान हुए लगभग 25 काले हिरणों की मौत के मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व वन मंत्री मो. अकबर को पत्र लिखकर निष्पक्ष जांच कराने तथा उदासीनता बरतने वाले डीएफओ को स्थानांतरित करने की मांग की है। वहीं विधायक के पत्र पर संज्ञान लेते हुए शासन ने मामले के जांच के आदेश दिए हैं।

72 काले हिरण मिले थे
कसडोल विकास खंड के अंतर्गत आने वाले बार नवापारा अभयारण्य में पर्यटकों को लुभाने के लिए वन विभाग द्वारा केंद्रीय चिडिय़ाघर पह्य्राधिकरण देहरादून के विशेषज्ञों के निरीक्षण के बाद काला हिरण अनुकूलन केन्द्र की स्थापना की गई। बार नवापारा अभयारण्य को प्रारंभ में नर व मादा मिलाकर कुल 27 काला हिरण मिले थे। बाद में और लाए गए। इससे इनकी संख्या 72 हो गई।

विशेषज्ञ डॉक्टर नहीं
विधायक चन्द्रदेव रॉय ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व वन मंत्री मो. अकबर का ध्यान आकृष्ट कराते हुए कहा कि बार नवापारा अभयारण्य को अस्तित्व में आए बरसों बीत गए हैं। लेकिन अब तक यहां वन्य प्राणी विशेषज्ञ डॉक्टर नहीं है। किसी वन्य प्राणी की मौत पर कसडोल के पशुचिकित्सक या नंदनवन रायपुर से वन्य प्राणी विशेषज्ञ डॉक्टर को बुलाना पड़ता है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned