Video: गरियाबंद में भैंसो से मिलने आने वाला वनभैंसा जुगाड़ू की मौत

Deepak Sahu | Publish: May, 04 2019 06:38:51 PM (IST) | Updated: May, 04 2019 07:56:34 PM (IST) Gariaband, Raipur, Chhattisgarh, India

12 अप्रैल 2019 को दो नर वन भैसा के बीच आपसी लड़ाई से यह वनभैंसा जुगाड़ू जख़्मी हो गया। जिसका उपचार सर्किल जुगाड़, रेज उत्तर उदंती सीतानदी टाइगर रिजर्व में किया जा रहा था, ग्रामीणों का इस वन भैसा से काफी लगाव था और टीम सिरिंज प्रोजेक्टर का उपयोग कर दवा उसके शरीर मे पहुचा रहे थे।

गरियाबंद। छतीसगढ़ राज्य के 22 वर्षीय बीमार चल रहे हैं राजकीय पशु वन भैंसा जुगाड़ू की मौत शनिवार को दोपहर हो गई। बीते 20 दिनों से बीमार चल रहा वन भैंसा जुगाड़ू का उपचार सिरिंज प्रोजेक्टर से दवाई से की जा रही थी। जुगाड़ू राजकीय पशु वन भैंसा है। इसका नाम ग्राम पंचायत तौरेंगा के आश्रित ग्राम जुगाड़ के नाम पर रखा गया था। यह नर वन भैंसा है।

बताया जाता है जुगाड़ू अन्य भैसीयो के संपर्क हेतु गांव पहुंच जाता था। आज दोपहर 1.30 बजे जुगाड़ू की मौत हो गई। वन विभाग के तीन डाक्टरों की टीम जुगाड़ू का पोस्टमार्टम करेगी इसके लिए वाइल्डलाइफ के वन संरक्षक रायपुर से रवाना हो चुके है। अधिकारियो का कहना है कल जुगाड़ू का पोस्टमार्टम किया जायेगा साथ ही अधिकारियों ने मौत की पुष्टि भी की।

 

ये हुआ था 22 वर्षीय जुगाड़ू के साथ

12 अप्रैल 2019 को दो नर वन भैसा के बीच आपसी लड़ाई से यह वनभैंसा जुगाड़ू जख़्मी हो गया था । अनुमानित 23 - 24 वर्ष के उम्र के वनभैंसा का उपचार कक्ष क्रमांक 13 , बिट कुरुभाटा , सर्किल जुगाड़ , रेज उत्तर उदंती सीतानदी टाइगर रिजर्व में किया जा रहा था। उपचार स्थल इन्द्रवन नदी के किनारे है।ग्रामीणों का इस वन भैसा से काफी लगाव था । यह वन भैसा इस ग्राम के इर्द गिर्द के वनक्षेत्रों में रहवास करता था ।जुगाड़ू की अधिक उम्र हो जाने के कारण वह बीमार था।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned