नौकरी के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले तीन शातिर ठगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

नौकरी के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले तीन शातिर ठगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Deepak Sahu | Publish: Apr, 28 2019 09:56:13 PM (IST) | Updated: Apr, 29 2019 01:18:17 PM (IST) Gariaband, Raipur, Chhattisgarh, India

पुलिस अधीक्षक सुखनंदन सिंह राठौर ने बताया कि आरोपी एक संगठित गिरोह के रूप में कार्य कर रहे थे। लोगों को कभी भुनेश्वर, कभी रायपुर तो कभी नागपुर हो रही भर्ती और भीड़ को दिखाते हुए बताया करते थे कि जिन लोगों ने पैसा दिया है उसका अलग से इंटरव्यू होगा।

गरियाबंद. रेलवे में नौकरी का झांसा देकर बेरोजगार युवकों से लाखों रुपए की करने ठगी के मामले में पुलिस ने तीन युवक को गिरफ्तार किया है। धारा 420, 34 के तहत जुर्म दर्ज कर आरोपियों को न्यायिक रिमांड पर लिया गया है।

 

criminal

ऐसे पकड़े गए आरोपी

गरियाबंद सिटी कोतवाली में छिन्दौला निवासी शीतल दास मानिकपुरी (21) ने जनवरी में रिपोर्ट दर्ज कराया था कि मदार खान उर्फ सलीम थाना फिंगेश्वर क्षेत्र, डोमन ध्रुव (22) व लालाराम ध्रुव (45) ने रेलवे में नौकरी लगाने के नाम पर अलग-अलग स्थान पर नगद रकम, बैंक खाते में रकम जमा कराकर अन्य लोगों को ठगी करते हुए लगभग 20लाख की धोखाधड़ी किया है। जिसके आधार पर पुलिस ने धारा 420, 34 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया था।

कॉल डिटेल व बैंक डिटेल के आधार पर आरोपी के नागपुर महाराष्ट्र में होने की जानकारी होने पर वहां छापा मारा गया। जहां पता चला कि आरोपी अपने ग्राम फिंगेश्वर चला गया है। घर में छापा मारकर मदार खान उर्फ सलीम को गिरफ्तार कर गरियाबंद लाया गया। साथ ही अन्य आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया गया।

ऐसे देते थे झांसा

इस संबंध में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सुखनंदन सिंह राठौर ने बताया कि आरोपी एक संगठित गिरोह के रूप में कार्य कर रहे थे। लोगों को कभी भुनेश्वर, कभी रायपुर तो कभी नागपुर ले जाकर रेलवे भर्ती के समय उनसे वहां हो रही भर्ती और भीड़ को दिखाते हुए बताया करते थे कि जिन लोगों ने पैसा दिया है उसका अलग से इंटरव्यू होगा।

उसके गिरोह के कुछ अन्य लोग अलग से साक्षात्कार लेते थे और उन्हें बता दिया जाता था कि वे पास हो गए हैं। जल्द ही उन्हें नियुक्ति पत्र मिल जाएगा। कुछ दिन के बाद उन्हें नियुक्तिपत्र दिखा कर उनके प्रमाण पत्र व अन्य कागजात मांगे जाते थे। नौकरी पाने के एवज में लगातार पैसा लिया जाता था। किसी से तीन लाख, किसी से 5 लाख तो किसी से 8 लाख रुपए तक लिए हैं।

कोलकाता भागने के फिराक में था मुख्य आरोपी

मुख्य आरोपी मदार खान पुलिस से बचने के लिए हवाई जहाज के माध्यम से कोलकाता रवाना होने की पूरी तैयारी कर ली थी। किंतु पुलिस की सक्रियता और तत्परता के चलते वह कामयाब नहीं हो पाया।
यहां की ठगी

फिंगेश्वर क्षेत्र के अंतर्गत दुतकईया गांव के मदार खान उर्फ सलीम व अन्य साथियों ने गरियाबंद, धमतरी महासमुंद, रायपुर, अभनपुर क्षेत्र के कई लोगों को रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों रुपया वसूल कर लिया। इसकी शिकायत गरियाबंद, नागाबुडा, भिलाई, छिन्दौला के लोगों ने पुलिस से की थी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned