नकली नक्सली बनकर रची थी ये खौफनाक साजिश, लेकिन ऐन मौके पर कैसे पहुंच गई पुलिस ?

नकली नक्सली बनकर रची थी ये खौफनाक साजिश, लेकिन ऐन मौके पर कैसे पहुंच गई पुलिस ?

Deepak Sahu | Publish: May, 18 2019 08:41:35 PM (IST) | Updated: May, 18 2019 08:43:39 PM (IST) Gariaband, Raipur, Chhattisgarh, India

* गरियाबंद पुलिस की बड़ी कामयाबी नकली नक्सली बनाने वाले 4 लोगों को दबोचा। आरोपियों के पास से मिले मोबाईल से आने वाले दिनों में इनके द्वारा की गई और घटनाओं की जानकारी मिलने की उम्मीद ।

गरियाबंद। जिला पुलिस ने नकली नक्सली बनकर फड़ मुंशी को लूटने की योजना बनाने वाले 4 लोगो को बोइरबेड़ा के जंगल से गिरफ्तार किया है। पुलिस ने जिन आरोपियों को गिरफ्तार किया है वह पूर्व में पुलिस के लिये साल भर तक गोपनीय सैनिक का कार्य कर चुके है। इनकी इन्ही सब हरकतों की वजह से इन्हें पद से हटाया गया था । शनिवार को एस पी एमआर आहिरे ने प्रेस वार्ता में खुलासा करते हुए बताया कि आज सुबह पुलिस को मुखबिर के माध्यम से सूचना मिली कि बोइरबेड़ा जंगल के बिंद्रानवागढ़ क्षेत्र में कुछ नक्सली दिखे हैं जिनके पास कुछ धारदार हथियार एवं बंदूक भी है।

सूचना प्राप्त होने पर तत्काल टीम का गठन कर उन्हें मौके पर सर्चिंग हेतु भेजा गया । जहां पर टीम के द्वारा बोइरबेड़ा जंगल में जाकर योजनाबद्ध तरीके से सर्चिंग की गई । सर्चिंग के दौरान पुलिस को कुछ लोगों की आपस मे बातचीत करने की आवाज सुनाई दी । जिसके बाद टीम ने अलग-अलग बटकर उनकी घेराबंदी कर उन्हें धर दबोचा । जिसके बाद पुलिस की पकड़ में 4 लोग आये मगर एक आरोपी भागने में कामयाब रहा । पकड़े गए चारों आरोपियों से पुलिस ने एक नग भरमार बंदूक दो नग चाकू दो नग डंडा और मोबाईल जब्त किये ।

पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वह नकली नक्सली बन कर जंगल में घात लगाए बैठे थे । ताकि कोई तेंदूपत्ता का फड़ मुंशी पैसा लेकर आए तो वे उसे लूट सके । आरोपियों ने बताया कि नक्सलियों के नाम से लोगों में डर का माहौल पैदा कर अपनी योजना को अंजाम देने की फिराक में थे । थाना मैनपुर में असगर खान पिता शाह मोहम्मद, साकिन बिन्द्रानवागढ़ थाना मैनपुर - हरीश देवांगन पिता कल्याण सिंह देवांगन ,रमेश कुमार ध्रुव पिता जैतराम ,जय प्रकाश ध्रुव पिता प्यारेलाल ध्रुव साकिन कोसमी दर्रीपारा थाना मैनपुर के विरुद्ध अपराध क्रमांक 53/19 धारा 399, 402 भादवी 25 आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज कर आरोपियों को न्यायिक रिमांड में भेज दिया गया है।

पुलिस को निकट भविष्य में इनसे और भी कई तरह की जानकारी मिलने की उम्मीद है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि पूर्व में भी इनके द्वारा इस तरह की घटना को अंजाम दिया गया है जिले में नक्सली समर्थन में बैनर पोस्टर लगाने में भी इनकी भूमिका से इंकार नहीं किया जा सकता । पुलिस के पास इनके मोबाइल है जिसकी फिलहाल जांच चल रही है जिससे इनके पिछले रिकार्ड को खंगालने में आसानी होगी ।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned