मगध यूनिवर्सिटीः 300 विदेशियों को पीएचडी पर विजिलेंस जांच

मगध विश्वविद्यालय में पिछले चार वर्षों में विदेशियों की दी गयी पीएचडी की डिग्रीयां अब संदेह के घेरे में आ गई हैं...

Shribabu Gupta

April, 0511:16 PM

Gaya, Bihar, India

बोधगया। मगध विश्वविद्यालय में पिछले चार वर्षों में विदेशियों की दी गयी पीएचडी की डिग्रीयां अब संदेह के घेरे में आ गई हैं। यही कारण है कि राज्य निगरानी अन्वेषण ब्यूरो की टीम विश्वविद्यालय में दो दिनों से यह पता लगा रही है कि इस मामले में कहां तक फर्जीवाड़ा किया गया या नहीं भी किया है।

जानकारी के अनुसार यह टीम वैसे अन्य डिग्रियों के बारे में भी जानकारी इकट्ठा कर रही है। मंगलवार को भी निगरानी टीम ने रजिस्ट्रार और एग्जामिनेशन ऑफिस से कई दस्तावेज तलब किये। निगरानी की जांच का दायरा 2011 से हाल तक दी गयी पीएचडी की डिग्री है। इस मामले में रजिस्ट्रार प्रो. सीताराम सिंह ने बताया कि विजिलेंस अधिकारियों ने साल 2011 से अब तक की पीएचडी डिग्री व अन्य बातों की जांच करने आयी थी।

गौरतलब हो कि इस साल के शुरू में गया पुलिस के एक आला अफसर को यह सूचना दी गयी थी कि विश्वविद्यालय के बौद्ध अध्ययन विभाग से पिछले चार वर्षों में ताबड़तोड़ तीन सौ से भी अधिक पीएचडी डिग्री विदेशियों को दी गयी है। इसमें थाईलैंड, म्यामांर व श्रीलंका आदि देश के नागरिक शामिल हैं।

इस मामले में यूनिवर्सिटी के एग्जामिनेश डिपार्टमेंट, गया इंटरनेशल एयरपोर्ट और विदेश विभाग से जानकारी मांगी गयी। मामले की गंभीरता को देखते हुए यह जांच अब राज्य अन्वेषण ब्यूरो कर रही है।

पुलिस ने शुरू में बिना एफआईआर के यह पता लगाने की कोशिश की कि जिन विदेशियों को पीएचडी डिग्री दी गयी है उनके वीजा के दस्तावेज से उनकी भारत में रहने की तारीख क्या है। इसके अलावा यह जानकारी लेने की कोशिश की गयी कि उनके अपने देश में दी गयी डिग्री की वास्तविकता क्या है और क्या वे अंग्रेजी या हिन्दी में इतने दक्ष हैं कि पीएचडी की थीसिस खुद लिखें।
श्रीबाबू गुप्ता
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned