मुंह में ऐसे भरें तेल, चेहरा रहेगा बेदाग सेहत रहेगा दुरुस्त

मुंह में ऐसे भरें तेल, चेहरा रहेगा बेदाग सेहत रहेगा दुरुस्त
Oil Pulling

Punit Kumar | Publish: Dec, 06 2016 01:11:00 PM (IST) घरेलू नुस्खे

मुंह में तेल भरकर कुल्ला करना ऑयल पुलिंग कहलाता है। यह वर्षो पुरानी आयुर्वेदिक थैरेपी है। इसका प्रयोग सामान्य रूप से कोई भी व्यक्ति कर सकता है। इसे 5-15 मिनट तक किया जा सकता है। इससे कोई हानि नहीं होता है।

आयुर्वेद में दांतों, जीभ और मुंह के अंदर वाले हिस्से को स्वस्थ रखने के लिए ऑयल पुलिंग करने की सलाह दी जाती है। ऐसा लगभग 3 हजार से ज्यादा वर्षों से किया जा रहा है। इस ऑयल पुलिंग कई अन्य फायदे भी हैं। कुछ खास तेल से ही इसको किया जाता है। 



ऐसे किया जाता है ऑयल पुलिंग  


तिल, जैतून या नारियल के तेल को मुंह में लेकर 10-15 मिनट के लिए घुमाया जाता है। इसके बाद जब तेल पतला हो जाता है तो इसे थूककर मुंह की अच्छी तरह से सफाई कर ली जाती है। 



ऑयल पुलिंग के समय बरती जाने वाली सावधानी



इसे करते समय ध्यान रखें कि तेल निगले नहीं क्योंकि 15 मिनट की प्रक्रिया में मुंह में मौजूद तेल में बैक्टीरिया, वायरस व विषाक्त पदार्थ बढ़ जाते हैं। साथ ही ध्यान रखें कि सुबह के समय खाली पेट तेल से कुल्ला करने से ज्यादा फायदा होता है। इसे करने के बाद आप नमक से दांतों और मसूढ़ों की मसाज भी कर सकते हैं। 



इससे होने वाले लाभ 



ऑयल पुलिंग से मुंह के बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं। इसके अलावा दांतों की सेंसिविटी कम होने के साथ-साथ इससे सिरदर्द, ब्रोंकाइटिस, दांतदर्द, अल्सर, पेट, किडनी, आंत, हार्ट, लिवर, फेफड़ों के रोग और अनिद्रा से भी राहत मिलती है। साथ ही बैक्टीरिया के बाहर निकलने से पाचनक्षमता भी दुरुस्त होती है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned