दिल्ली से इलाज की आस लेकर आई 70 वर्षीय बुजुर्ग, 2 घंटे तक तड़प तड़पकर तोड़ा दम

दिल्ली की रहने वाली महिला को इलाज के लिए लाया गया था गाजियाबाद। परिजनों ने अस्पताल पर लगाया आरोप। दिल्ली में इलाज नहीं मिलने के कारण गाजियाबाद और नोएडा का रुख कर रहे मरीज।

By: Rahul Chauhan

Published: 21 Apr 2021, 03:57 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

गाजियाबाद। जनपद में भी कोरोना वायरस के चलते हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं। जहां एक तरफ अस्पतालों में बेड की किल्लत हो रही है तो वहीं अब ऑक्सीजन की कमी के कारण भी अब कोविड मरीज दम तोड़ रहे हैं। ऐसा ही ताजा मामला सामने आया है। जिसमें दिल्ली की रहने वाली एक 70 वर्षीय सुनीता कक्कड़ नाम की महिला को कोविड-19 पॉजिटिव होने पर दिल्ली में इलाज नहीं मिला। सांस की गंभीर समस्या के कारण उन्हें गाजियाबाद लाया गया। परिजन मरीज को लेकर गाजियाबाद के संयुक्त जिला चिकित्सालय सेक्टर-23 पहुंचे। जहां पर सरकारी कोविड-19 सेंटर बना हुआ है। लेकिन वहां पहुंचने पर स्टाफ द्वारा कहा गया कि दोबारा से मरीज की कोविड-19 जाँच होगी, जो कि दूसरे जिला अस्पताल में ही होगी। परिजनों का आरोप है कि अस्पतालों की प्रक्रिया में पीड़ित को करीब 2 घंटे तक इंतजार कराया गया। जिसके कारण उन्होंने दम तोड़ दिया।

यह भी पढ़ें: दिल्ली के बाद गाजियाबाद में भी कोविड संक्रमित बुजुर्ग को नहीं मिला इलाज, सड़क पर ही तोड़ा दम

इस पूरे मामले की जानकारी देते हुए मृतक महिला के दामाद संदीप चड्डा ने बताया कि दिल्ली में रहने वाली 70 वर्षीय सासू मां सुनीता कक्कड़ कोरोना संक्रमित हो गई थीं। जिन्हें अचानक ही सांस लेने में परेशानी होने लगी। उन्हें दिल्ली के कई अस्पतालों में ले जाया गया। लेकिन कहीं भी उन्हें भर्ती नहीं किया गया। उसके बाद इन्होंने गाजियाबाद का रुख किया और वह जिला संयुक्त अस्पताल लेकर आए। लेकिन सरकारी सिस्टम के करण 2 घंटे तक उनकी सासू मां एंबुलेंस में ही तड़पती रही और 2 घंटे बाद उन्होंने दम तोड़ दिया।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन के डर से गांव लौट रहे थे प्रवासी मजदूर, ट्रक और वैन की टक्कर में चार की मौत

पहले भी मरीज तोड़ चुके दम

गौरतलब है कि अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन की कमी के कारण मरीज सड़क या बाहर ही दम तोड़ रहे हैं। मंगलवार को भी एक 70 वर्षीय बुजुर्ग ने इलाज न मिलने के चलते सड़क पर ही दम तोड़ दिया। दिल्ली में इलाज न मिलने के कारण अब मरीज गाजियाबाद व नोएडा का रुख कर रहे हैं। हालांकि इन शहरों में भी अब बे़ड और ऑक्सीजन की कमी होने के कारण मरीजों का इलाज नहीं मिल रहा है।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned