स्टूडेंट एक्चेंज कार्यक्रम है छात्रों के लिए बेहतरीन अवसर

स्टूडेंट एक्चेंज कार्यक्रम है छात्रों के लिए बेहतरीन अवसर

Archana Sahu | Publish: Nov, 19 2015 08:19:00 PM (IST) Ghaziabad, Uttar Pradesh, India

इंटरनेशनल माॅडल यूनाइटेड नेशन कान्फ्रेंस का शुभारंभ में उठाए गएं विभिन्न मुद्दे

नोएडा। एमिटी एजुकेशनल रिर्सोस सेंटर एंव एमिटी इंटरनेशनल स्कूल द्वारा एमिटी इंटरनेशनल माॅडल यूनाईटेड नेशन 2015 का आयोजन किया गया। समारोह का उद्घाटन रिपब्लिक आॅफ साल्वेनिया के राजदूत जोजेफ ड्राफेनिक, रिपब्लिक आॅफ साल्वेनिया की मिनिस्टर प्लेनिपोंटिशयरी बोरिस जेलोवसेक, किंगडम आॅफ बेल्जियम दूतावास के प्रथम सचिव अरनौड गेसपाल्ट, पाकिस्तान में हंगरी के पूर्व राजदूत इस्तवान दारवासी, बालास्सी इंस्टीट्यूट - हंगरियन इन्र्फोमेशन कल्चरल सेंटर के निदेशक डाॅ. जोल्टन विलहेल्म, स्वीडन दूतावास के प्रथम सचिव मारकस हाॅल्कनेक्ट, एंव डाॅ. अमिता चौहान, चेयरपरसन, एमिटी इंटरनेशनल स्कूल, ने पारंपरिक दीप जलाकर किया।

जोजेफ ड्राफेनिक ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि एमिटी द्वारा छात्रों हेतु बेहतरीन कार्य किया जा रहा है। इस अंर्तराष्ट्रीय माॅडल यूनाईटेड नेशन का उद्देश्य विचारों से विश्व का बदलाव है, जो अति महत्वूपूर्ण है लेकिन एक और महत्वपूर्ण बिंदू है कि इन विचारों की उत्पत्ती कहां से होती है।

महामहिम ने कहा कि स्टूडेंट एक्चेंज कार्यक्रम छात्रों के लिए बेहतरीन अवसर होता है, जब हम वैश्विक स्तर पर दूसरों की समस्याओ एंव परेशानियों को समझते हैं और उनके निवारण हेतु प्रयास करते हैं। हर देश की अपनी संस्कृती एंव मूल्य होते हैं जो आपको कुछ नया सीखाते है और आपके इतिहास से उनके समाज को अपने समाज से जोड़कर देखते है। स्टूडेंट एक्चेंज कार्यक्रम एक स्वशिक्षण का माध्यम भी है। एक दूसरे क मनोभाव, संस्कृतियों को समझने एंव एक दूसरे की मुश्किलों को दूर करने का प्रयास एंव सहनशीलता ही विश्व हेतु उत्तम है जो पिछले शुक्रवार को पेरिस हुई जैसी घटनाओं को टालेगा।

डाॅ. अमिता चौहान ने छात्रों तथा अतिथियों को संबोधित करते हुए कहा कि विश्व में विभिन्न देश जैसे यूएसए, जापान, थाईलैंड, जर्मनी, फ्रांस, इटली, साल्वेनिया, आस्ट्रेलिया सहित देश के विभिन्न राज्य के विद्यालयों के लगभग 500 छात्रों ने हिस्सा लिया और आॅरगनाईजेशन आॅफ इस्लामिक कोआपरेशन, यूनाईटेड नेशन एजुकेशनल सांइटफिक एंड कल्चरल आॅरगनाइजेशन, यूनाईटेड नेशन काॅन्फ्रेस आॅन ट्रेड एंड डेवलपमेंट, यूनाईटेड नेशन सिक्योरिटी काउंसिल, नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल फाॅर यूएसए, इंदिरा गांधी कैबिनेट, नार्थ एटलांटिक ट्रिटी आॅरगनाइजेशन आदि की कार्यवाही का अनुकरण किया।

छात्रेां द्वारा विभिन्न कांउसिलों का आयोजन किया गया जिसके अंर्तगत यूनाईटेड नेशन सिक्योरिटी काउंसिल में अफ्रिका में हो रहे संर्घष का मुद्दा उठाया गया। इस अवसर पर छात्रों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। कार्यकम का समापन 21 नवंबर 2015 को होगा, जिसमें अच्छा प्रदर्शन करने वाले छात्रों को पुरस्कृत भी किया जायेगा।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned