नरेश टिकैत बोले- गर्म माहौल के बीच गांवों में न जाएं भाजपा नेता, हो सकती है अप्रिय घटना

Highlights

- भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने यूपी गेट से किया आगाह

- सरदार भगत सिंह को याद करते हुए पगड़ी संभाल दिवस मनाया

- बोले- अब हल चलाने वाला किसान हाथ नहीं जोड़ेगा

By: lokesh verma

Published: 24 Feb 2021, 10:09 AM IST

गाजियाबाद. भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने कहा कि आजकल गांवों का माहौल बेहद गर्म है। इसलिए भाजपा के नेता गांवों में जाने से परहेज करें। अगर भाजपा नेता गांवों में जाएंगे तो किसान उनसे गन्ने के भाव, बिजली की दर और कृषि कानूनों पर सवाल करेंगे। ऐसे में कहीं भी अप्रिय घटना होने की आशंका है। बता दें कि भाकियू अध्यक्ष मंगलवार को गाजीपुर बॉर्डर पर पहुंचे जहां उन्होंने कृषि कानून की वापसी को लेकर धरने पर बैठे किसानों के साथ सरदार भगत सिंह की याद में पगड़ी संभाल दिवस मनाया और तीनों कृषि कानून को जल्द वापस लेने की बात दोहराई।

यह भी पढ़ें- पूर्वांचल के गन्ना बेल्ट में किसानों को साधने पहुंचे जयंत चौधरी, किसान महापंचायत में बोले, भाजपा नेताओं से कृषि बिल पर कीजिये सवाल

दरअसल, किसान नेता राकेश टिकैत मंगलवार को चुरू में आयोजित एक बड़ी किसान महापंचायत में शामिल होने गए थे। इसलिए नरेश टिकैत ने यूपी गेट बॉर्डर का मोर्चा संभाला। उन्होंने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि अब किसान एकजुट है और इसी तरह एक मंच पर सभी किसानों को रहना है और हर हाल में अपनी मांग पूरी करवाना है। जैसे ही नरेश टिकैत यूपी गेट पहुंचे तो उन्होंने शहीद भगत सिंह को याद किया और पगड़ी संभाल दिवस मनाया। इस दौरान एक-दूसरे को किसानों ने पगड़ी बांधी और कहा कि हल चलाने वाला किसान अब हाथ नहीं जोड़ेगा।

फसल जलाकर अन्न का अनादर न करें किसान

नरेश टिकैत ने कहा कि धरने पर बैठे हुए 90 दिन हो गए हैं, जल्द ही शतक पूरा होने वाला है। जब तक सरकार हमारी मांग नहीं मानती है, तब तक हम आंदोलन स्थलों पर जुटे रहेंगे। कई स्थानों पर फसल जलाने की घटना पर उन्होंने कहा कि फसल का अनादर नहीं करना चाहिए। कुछ किसान गुस्से में ऐसा कर गए होंगे। आगे से ऐसी घटनाएं नहीं होनी चाहिएं। क्योंकि फसल ही किसान की मुख्य पहचान होती है। इसीलिए किसान देश की रीढ़ की हड्डी और अन्नदाता कहा जाता है। उन्होंने कहा कि जिस जोश के साथ सभी किसान धरना स्थल पर मौजूद हैं। यही जोश बरकरार रखना है और हर हाल में अपनी मांग पूरी करवानी है।

यह भी पढ़ें- अगर आप बैंक के कर्जदार हैं तो नहीं लड़ सकेंगे पंचायत चुनाव

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned