गाजियाबाद में जांच के लिए पहुंचे सीओ के साथ भाजपा कार्यकर्ताओं ने की बदसलूकी, फाड़ी वर्दी

Iftekhar Ahmed

Publish: Sep, 17 2017 05:46:22 (IST)

Ghaziabad, Uttar Pradesh, India
गाजियाबाद में जांच के लिए पहुंचे सीओ के साथ भाजपा कार्यकर्ताओं ने की बदसलूकी, फाड़ी वर्दी

किसी मामले की पड़ताल करने गए सीओ के साथ महिलाओं और स्थानीय लोगों ने न सिर्फ जमकर बदसलूकी की, बल्कि उनकी वर्दी तक फाड़ डाली ।

गाजियाबाद. प्रदेश में भाजपा सरकार बनने के बाद पुलिसकर्मियों पर हमले की वारदात में तेजी से इजाफा हुआ है। प्रदेश में कई जगह से ऐसी तस्वीरें सामने आई, जहां पर पुलिसकर्मियों को दौड़ा-दौड़ा कर न सिर्फ पीटा गया, बल्कि कई पुलिसकर्मियों की हत्या तक भी की जा चुकी है । इससे लोगों में असुरक्षा का भाव पनपने लगा है, क्योंकि जब पुलिसकर्मी हीसुरक्षित नहीं है तो आम लोगों की सुरक्षा की गारंटी कौन लेगा। ऐसा ही एक मामला गाजियाबाद में देखने को मिला। जहां पर किसी मामले की पड़ताल करने गए सीओ के साथ महिलाओं और स्थानीय लोगों ने न सिर्फ जमकर बदसलूकी की, बल्कि उनकी वर्दी तक फाड़ डाली । 


हालांकि, मामला 15 दिन पुराना बताया जा है। लेकिन इस मामले से जुड़ा एक एक वीडियो अब वायरल हुआ है, जिसके बाद ये मामला सुर्खियों में आ गया है। इस वीडियो में साफ तौर पर दिखाई दे रहा है कि सीओ सैकेंड रूपेश कुमार सिंह के साथ लोग कितनी अभद्रता कर रहे हैं । जानकारी के अनुसार जिन लोगों ने सीओ के साथ बदसलूकी की है, वो लोग भाजपा के कार्यकर्ता बताए जा रहे हैं। इसके साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि जिन्होंने यह बदसलूकी की है, उन्हें पार्टी से बहार का रास्ता दिखा दिया गया है । इस बारे में अब वीडियो वायरल होने के बाद जब सत्रिका संवादादात ने एसपी सिटी आकाश तोमर से जानकारी ली तो उनका कहना है कि मामला अब सामने आया है। वीडियो के माध्यम से उन लोगों की पहचान की जाएगी और बदसलूकी करने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी चाहे कोई भी क्यों ना हो ।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार आने के बाद से लगातार हिन्दूवादी संगठनों की ओर से पुलिस और प्रशान के अधिकारियों पर हमले की घटना सामने आ रही है। एसे में सरकार पर भी विपक्ष के हमले हो रहे हैं। लोगों का आरोप है कि सत्ता की शह मिलने से ही ऐसे तत्वों के हौसले बुलंद है, जिसकी वजह से ये कानून को हाथ में लेने से भी बाज नहीं आते हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned