21 फर्म बनाकर सरकार को लगाया 17 करोड़ का चूना, 115 करोड़ के फर्जीवाडे की थी तैयारी

21 बोगस फर्म तैयार कर जारी किए 115 करोड़ के फर्जी बिल। दोनों को गिरफ्तर कर न्यायिक हिरासत में भेजा गया।

By: Rahul Chauhan

Published: 27 Jul 2021, 11:40 AM IST

गाजियाबाद। सीजीएसटी की टीम ने करीब 21 बोगस फर्म बनाकर टैक्स की चोरी करने वाले एक फर्म के दो निदेशकों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेजा है। आरोप है कि इन्होंने 21 ऐसी फर्म तैयार की, जिनके माध्यम से 17 करोड़ 58 लाख रुपए का क्लेम वसूला गया। सीजीएसटी की टीम ने छापेमारी के दौरान इन दो निदेशकों को गिरफ्तार कर लिया है। मिली जानकारी के अनुसार उद्योग से लेकर वाहन और घर पर लोन दिलाने और लोहा इस्पात के अलावा इलेक्ट्रॉनिक सामान की बिक्री के नाम पर 17 करोड़ 58 लाख रुपए की टैक्स की चोरी के मामले में सीजीएसटी की टीम ने मैसर्स शुमस्टार ग्लोबल बिजनेस सॉल्यूशंस लिमिटेड के दो निदेशकों को गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़ें: कारगिल युद्ध के शहीदों काे नमन करते हुए सीएम ने उनके परिवारों काे किया सम्मानित

सीजीएससी की टीम ने जब गहनता से जांच की तो पता चला कि इन दोनों ने पिछले 4 साल के दौरान 21 बोगस फर्म बनाई और 115 करोड़ रुपए से अधिक के फर्जी बिल जारी कर सीजीएसटी से इनपुट टैक्स क्रेडिट आईटीसी वसूला है। सीजीएसटी की टीम ने इन दोनों को गिरफ्तार कर 12 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है और वैधानिक कार्रवाई शुरू कर दी गई है। सीजीएसटी के आयुक्त आलोक झा ने बताया कि उन्हें सूत्रों के द्वारा जानकारी प्राप्त हुई कि गाजियाबाद कि मैसर्स शुमस्टार ग्लोबल बिजनेस सॉल्यूशंस लिमिटेड कंपनी के दो निदेशकों ने 21 बोगस फर्म बनाई हुई है और वह उद्योग से लेकर वाहन और घर पर लोन दिलाने के अलावा लोहा इस्पात और इलेक्ट्रिक सामान की बिक्री के नाम पर फर्जी बिल जारी कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: यूपी में निकली 58,198 ग्राम पंचायत सहायकों की भर्ती, जानिये क्या है पात्रता और चयन पक्रिया

उन्होंने बताया कि इन बोगस फर्म के नाम से जारी बिल पर यह लोग विभाग से क्लेम वापसी भी ले रहे थे। इस पूरे मामले की गहनता से जांच करते हुए छापेमारी की गई तो इस दौरान जांच में पाया गया कि इन दोनों के द्वारा 21 अगस्त फार्म बनाकर 17 करोड़ 58 लाख रुपए का क्लेम वसूला गया है। दोनों आरोपियों को ही गिरफ्तार कर लिया गया है और फिलहाल दोनों को 12 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned