Ghaziabad पहुंचे मुख्य सचिव हुए आगबबूला, दो अधिकारी समेत चार को किया सस्पेंड, देखें Video

Highlights
- मुख्य सचिव आरके तिवारी ने किया गाजियाबाद नगर निगम का औचक निरीक्षण
- मुख्य सचिव आरके तिवारी ने नगर आयुक्त को लगाई जमकर फटकार
- लापरवाही के आरोप में नगर निगम के दो इंस्पेक्टर व दो कर्मचारियों को किया सस्पेंड

गाजियाबाद. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्य सचिव आरके तिवारी (Chief Secretary Rajeev Tiwari) सोमवार को औचक निरीक्षण करने के लिए गाजियाबाद नगर निगम (Ghaziabad Nagar Nigam) कार्यालय पहुंचे। उनके यहां पहुंचते ही अधिकारियों में भगदड़ मच गई। आनन-फानन में जिले के सभी बड़े अधिकारी मौके पर पहुंचे। नगर निगम में अव्यवस्था देख मुख्य सचिव भड़क उठे। उन्होंने इस दौरान नगर आयुक्त को जमकर फटकार लगाई। इसके साथ ही उन्होंने सेनेटरी व प्रकाश विभाग के इंस्पेक्टर के साथ दो निगम कर्मियों को सस्पेड कर दिया।

इस मौके पर मुख्य सचिव आरके तिवारी ने अधिकारियों को हिदायत देते हुए कहा कि नगर निगम में गंदगी फैली हुई है, यह ठीक नहीं है। यही नहीं इसके बाद वह नगर निगम दफ्तर के आसपास के क्षेत्र में भी जायजा लेने के लिए निकल पड़े। इसी दौरान मुख्य सचिव को एक शख्स पॉलीथिन में समान ले जाता नजर आया तो बस फिर क्या था, मुख्य सचिव का गुस्सा पॉलीथिन देखकर सातवें आसमान पर चढ़ गया। उन्होंने पूछा कि पॉलीथिन में सामान कौन ले जा रहा है तो किसी ने कोई जवाब नहीं दिया। वहीं तमाम चीजें देखने के बाद उन्होंने दो नगर निगम कर्मियों को सस्पेंड करने का आदेश दे दिया।

यह भी पढ़ें- अयोध्या फैसले पर पुनर्विचार याचिका लेकर दारुल उलूम देवबंद से आया बड़ा बयान

नगर निगम के प्रवेश द्वार पर गड्ढे देख भड़के प्रमुख सचिव

चीफ सेक्रेटरी जैसे ही नगर निगम पहुंचे नगर निगम की एंट्री को लेकर ही भड़क उठे। दरअसल, नगर निगम में प्रवेश द्वार पर ही कुछ गड्ढे थे, जिसको लेकर उन्होंने नाराजगी जताई। इसके बाद वह सीधे नगर निगम के अंदर पहुंचे और सबसे पहले टॉयलेट का जायजा लिया। जहां गंदगी देखकर चीफ सेक्रेटरी का पारा और भी ज्यादा हाई हो गया। इसके बाद वह निगम के अधिकारियों और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ नवयुग मार्केट की मलिन बस्तियों के निरीक्षण के लिए पैदल ही चल दिए। नगर निगम के पास ही नालियों के बाहर पड़े कूड़े को लेकर उन्होंने अधिकारियों को फटकार लगाई।

प्रकाश विभाग इंस्पेक्टर और सेनेटरी इंस्पेक्टर सस्पेंड

नगर निगम के बाहर का निरीक्षण करने के बाद चीफ सेक्रेटरी एक बार फिर नगर निगम के अंदर पहुंचे और शिकायत रजिस्टर की जांच करने लगे। जिन लोगों ने नगर निगम में अपनी शिकायतें दर्ज कराई थी। उसको लेकर चीफ सेक्रेटरी ने लोगों से फीडबैक जानने के लिए लिखे गए नंबरों पर कॉल करना शुरू किया, लेकिन जितने भी लोगों से उन्होंने फोन पर बात की सभी ने कहा कि उनकी समस्या का निस्तारण अब तक नहीं हुआ है। इसको लेकर चीफ सेक्रेटरी भड़क उठे और उन्होंने कार्य में लापरवाही बरतने पर प्रकाश विभाग के इंस्पेक्टर विशंभर और सेनेटरी इंस्पेक्टर सतीश को सस्पेंड कर दिया। साथ ही शिकायत सेल प्रभारी पर विभागीय कार्यवाही और एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए।यूपी के मुख्य सचिव ने निगम में काम के प्रति लापरवाही करने पर जनता से माफी भी मांगी।

नगर आयुक्त को दिया एक माह का समय

इस दौरान उन्होंने नगर आयुक्त दिनेश चंद को भी फटकार लगाई और साफ कहा कि अगर 1 महीने में कार्यप्रणाली में सुधार नहीं किया गया तो निगम के बड़े अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। चीफ सेक्रेटरी ने निर्देश दिए कि जल्द से जल्द नालियों की सफाई कराने के बाद कूड़े को हटाया जाए। कहीं भी अगर कूड़े के ढेर में आग लगाई जाए तो कार्यवाही की जाए।

शिकायत लेकर निगम कार्यालय पहुंचे लोग

वहीं जैसे ही इस बात की जानकारी लोगों तक पहुंची कि चीफ सेक्रेटरी नगर निगम पहुंचे हैं तो तमाम लोग अपनी शिकायतों को लेकर नगर निगम के ऑफिस पहुंचे। लोगों का कहना था कि लंबे अरसे से कई बार वह शिकायतों दे चुके हैं, लेकिन किसी भी समस्या का निस्तारण नहीं हो रहा है। चीफ सेक्रेटरी से मिलकर उन्होंने अपनी शिकायत दर्ज कराई, जिसके बाद चीफ सेक्रेटरी ने दिशा-निर्देश दिए कि सभी शिकायतों को तत्काल प्रभाव से निस्तारण किया जाए।

यह भी पढ़ें- एक बंदूक को ढूंढने के लिए अधिकारी के साथ लगाने पड़े 188 सिपाही, जानिये पूरा मामला

Show More
lokesh verma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned