VIDEO: अतिक्रमण हटाते वक्त बच्ची के सिर में घुसा गाटर, लोगों ने अधिकारियों पर लगाए गंभीर आरोप

Ashutosh Pathak | Publish: Jun, 04 2019 02:53:05 PM (IST) Ghaziabad, Ghaziabad, Uttar Pradesh, India

  • नगर निगम की लापरवाही से बच्ची घायल
  • अतिक्रमण हटाते हुए सिर में घुसा गाटर
  • बच्ची की हालत गंभीर, अस्पताल में भर्ती

ग़ाज़ियाबाद। विजयनगर इलाके में अतिक्रमण हटा रही नगर निगम टीम की लापरवाही एक बच्ची पर भारी पड़ गयी। जब अतिक्रमण हटाने के दौरान अपने घर में बैठी हुई बच्ची के सिर में लोहे का गटर घुस गया। जैसे ही यह गंभीर हादसा हुआ तो आनन-फानन में घायल अवस्था में बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया। वहीं अतिक्रमण हटाने आए प्रशासनिक अधिकारियों पर भी गंभीर आरोप लगाए।

ये भी पढ़ें: VIDEO: लापता बेटी के घर लोटने पर पिता ने डांटा, तो दरोगा ने तोड़ दिया पिता का हाथ

 

गाटर धसने से बच्ची घायल

जानकारी के अनुसार नगर निगम की टीम सोमवार दोपहर को शाहबाद मिठापुर में टीन और बाउंड्री से किया हुआ अतिक्रमण हटा रही थी। उसके पास ही फोंदि खां पुत्र मंगत खां का परिवार रहता है। आरोप है कि निगम की टीम ने अतिक्रमण हटाने के दौरान लापरवाही दिखाते हुये आसपास के घर के घरों को खाली नहीं कराया गया था। अतिक्रमण हटाते हुए एक गाटर 30 फिट दूर बने घर में फोंदि खां की चारपाई पर बैठी हुई 14 वर्षीय पुत्री फरहान के सिर में घुस गया। गाटर लगते ही फरहाना बेहोश हो गयी। जैसे ही यह गंभीर हादसा हुआ तो इलाके में भगदड़ मच गई और आनन-फानन में फरहाना को उसके परिजन विजयनगर के फोर्टिस अस्पताल में लेकर पंहुचे। जहां बच्ची को आईसीयू में भर्ती कराया गया उसकी हालत अभी भी गम्भीर बनी हुई है।

ये भी पढ़ें: VIDEO: बीजेपी की गाड़ी से होता था ऐसा धंधा! पुलिस ने मारा छापा तो हुआ बड़ा खुलासा

अतिक्रमण हटाने पहुंचे थी नगर निगम टीम

उधर घायल बच्ची के पिता फोंदि खां ने विजयनगर थाने में तहरीर देते हुये अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही में शामिल एसडीएम प्रशांत तिवारी समेत गांव के ही तेरह लोगों कसूरवार ठहराते हुये इन पर कार्रवाई करने की मांग की है। इसके अलावा स्थानीय लोगों में भी इस हादसे के बाद से नगर निगम और प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ बेहद गुस्सा भरा हुआ है।

ये भी पढ़ें: VIDEO: बंद मकान से आ रही थी बदबू, पड़ोसियों ने अंदर जा कर देखा उड़ गए होश

प्रशासनिक अधिकारियों पर लगाए गंभीर आरोप

उधर लोगों का प्रशासनिक अधिकारियों पर यह भी आरोप है कि जिस वक्त किसी भी कॉलोनी में कंस्ट्रक्शन किया जाता है, तो उस वक्त कोई भी अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचता और यदि वह पहुंचता भी है तो अपनी जेब गर्म कर वहां से नौ दो ग्यारह हो जाता है और बाद में आकर उस कॉलोनी में बने मकानों को अवैध घोषित कर दिया जाता है।

लोगों ने कहा अवैध निर्माण को देते हैं बढ़ावा

लोगों का यह आरोप है कि यदि जिले में कहीं भी अतिक्रमण होता है या अवैध रूप से मकान बनाए जाते हैं तो इसमें जितना मकान बनाने वाला दोषी है उनके अलावा उतना ही उस इलाके में तैनात कर्मचारी भी उतने ही दोषी होते हैं। क्योंकि सबसे ज्यादा बढ़ावा वहीं पर तैनात कर्मचारी ही लोगों को देते हैं जिसके कारण धीरे-धीरे कर बड़ी मात्रा में अवैध रूप से मकान बन कर खड़े हो जाते हैं और अतिक्रमण हो जाता है। आपको बता दें कि इससे पहले भी लोनी इलाके में एक ऐसा ऐसा ही हादसा हो चुका है जहां पर एक मजदूर हो अपनी जान गवानी पड़ी थी। बहराल विजय नगर के इलाके में रहने वाले लोगों का गुस्सा इस वक्त प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ आसमान पर है।

उधर इस पूरे मामले में थाना विजय नगर थाना अध्यक्ष श्यामवीर सिंह का कहना है कि इस तरह का मामला सामने आया था और बच्ची का अभी अस्पताल में इलाज कराया जा रहा है बच्ची के पिता के द्वारा थाने में तहरीर दी गई है जिसके आधार पर अभी जांच शुरू कर दी गई है। जांच में जो भी लोग दोषी पाए जाएंगे उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned