कोरोना रोगियाें काे होम आइसोलेट हाेने के लिए लेनी हाेगी शासन से अऩुमति

  • स्वास्थ्य विभाग और पुलिस कर्मियों के साथ साथ पड़ोसी भी करेंगे निगरानी
  • निगरनी के इस तरीके को दिया गया है फ्रेंडली वॉच नाम

By: shivmani tyagi

Updated: 24 Jul 2020, 04:29 PM IST

गाजियाबाद ( latest ghazibad news) कोविड-19 संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा होने के कारण शासन तमाम तरह की योजनाओं पर काम कर रहा है। इसी कड़ी में कोविड-19 संक्रमित रोगियों को होम आईसाेलेशन में रहकर अपना उपचार कराने की भी अऩुमति मिली है लेकिन इसके लिए शासन से अनुमति लेनी हाेगी।

यह भी पढ़ें: शराब के शौकीनों के लिए बड़ी खबर, अब शनिवार-रविवार को मिनी लॉकडाउन में भी खुलेंगे ठेके

गाजियाबाद प्रशासन ने निर्देश दिए गए हैं कि होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों के आवासीय क्षेत्रों को विशेष जोन में रखा जाएगा और पूर्व की तरह ही संक्रमित व्यक्ति के आवास को कंटेनमेंट जोन माना जाएगा। यदि मरीज घर पर रहकर अपना उपचार कराता है तो उसमें विशेष सख्ती और निगरानी भी रखी जाएगी। घर में रहने वाले लोगों को लगातार सतर्क किया जाएगा। पुलिस के साथ स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी भी वहां तैनात रहेंगे इसके अलावा पड़ोसियों को भी उनकी निगरानी रखने के लिए निर्देश दिए जाएंगे।

यह भी पढ़ें: आजम खान थोड़ी देर में पहुंचेगे मुरादाबाद, अदालत में होगी पेशी

वर्तमान में यह देखने को मिला है कि कुछ लोगों के अंदर कोविड-19 संक्रमण के लक्षण भी नहीं दिखाई देते हैं और वह संक्रमित हो रहे हैं। इसे ध्यान में रखते हुए शासन की ओर से दो दिन पहले कोरोना संक्रमित बिना लक्षण वाले मरीजों के लिए होम आइसोलेशन की व्यवस्था शुरू किए जाने की घोषणा की गई है। इसके लिए तमाम तरह की गाइडलाइन भी बनाई गई हैं। सभी जिलों के स्वास्थ्य अधिकारियों और जिला प्रशासन को इसकी पूरी योजना तैयार करने के लिए भी आदेशित किया गया है। इसी के चलते अब गाजियाबाद के जिला अधिकारी अजय शंकर पांडे के ने इस योजना पर कार्य करने के लिए निर्देश दिए हैं। उन्हाेंने कहा है कि लोग होम आइसोलेशन में रहकर अपना उपचार करेंगे उनकी पूरी निगरानी की जाएगी।

यह भी पढ़ें: काली टोपी काला मास्क लगाकर आजम खां कड़ी सुरक्षा में पहुंचे कोर्ट

सख्ती से सभी गाइडलाइन का पालन कराना होगा। जिला अधिकारी का कहना है कि सबसे पहले मरीज को होम आइसोलेशन पर रहने के लिए प्रशासन से अनुमति लेनी होगी। प्रमाण पत्र पर हस्ताक्षर करना होगा। जिसके बाद शासन की ओर से मरीज के घर के बाहर सूचनात्मक पर्चा चस्पा किया जाएगा। आसपास रहने वाले लोगों काे भी पूरी तरह सचेत किया जाएगा। इतना ही नहीं उस स्थान को विशेष जोन में रखते हुए कंटेनमेंट जोन ही माना जाएगा। ऐसे क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी और पुलिसकर्मी भी तैनात रहेंगे।

यह भी पढ़ें: गजब: नगर पालिका में नहीं मिला सैनिटाइजर तो अधिकारियों के कमरे पर लटका दिया ताला

घर में रहने वाले अन्य लोग किस तरह से अपना बचाव कर सकते हैं इसके बारे में उन्हें जागरूक किया जाएगा। राेगी के साथ-साथ परिवार के अन्य सदस्यों को भी स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाइन का पालन करना होगा। जिला अधिकारी का कहना है कि होम आइसोलेशन वाले लोगों पर पूरी निगरानी बरती जाएगी। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी भी रोजाना भ्रमण कर उन इलाकों को पूरी निगरानी में रखेंगे।

यह भी पढ़ें: कड़ी सुरक्षा में मुरादाबाद काेर्ट लाए गए सांसद आजम खान, बेटा भी साथ, समर्थकों को पुलिस ने रोका

इस योजना में खास बात यह है कि उस मरीज की निगरानी रखने के लिए पड़ोसी को भी इसकी जिम्मेदारी सौंपी जाएगी इस निगरानी का नाम फ्रेंडली वॉच दिया गया है। इन लोगों से कंट्रोल रूम भी आस-पास के लोगों के स्वास्थ्य की जानकारी लेगा। मरीज की आइसोलेशन अवधि पूरी नहीं होने तक आवास के क्षेत्र में विशेष सख्ती रखी जाएगी।

Corona virus
shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned