आसान होगा सफर : अप्रैल 2022 तक गाजियाबाद में दौड़ेगी देश की पहली Rapid Rail

Rapid Rail से पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लाखों लोगों का सफर होगा आसान, घटेगी मेरठ से दिल्ली की दूरी।

By: lokesh verma

Published: 27 Jun 2021, 11:50 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
गाजियाबाद. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लोगों के लिए बड़ी राहत वाली खबर है, क्योंकि बहुत जल्द गाजियाबाद (Ghaziabad) तक देश की पहली रैपिड रेल (Rapid Rail) शुरू होने वाली है। एनसीआरटीसी विभाग का मानना है कि गाजियाबाद में अप्रैल 2022 तक इसका संचालन शुरू कर दिया जाएगा। व्यवस्थित संचालन के लिए 3 से 6 महीने तक इसका ट्रायल किया जाएगा। जबकि 2023 तक साहिबाबाद से दोहाई के बीच यानी 17 किलोमीटर के रुट पर शुरू होने की पूरी उम्मीद है। तमाम आधुनिक संसाधनों से लैस इस रैपिड रेल का बड़ा लाभ पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लाखों लोगों को मिलेगा। क्योंकि जिस तरह से एनसीआरटीसी ने लक्ष्य रखा है। उससे मेरठ तक चलने के बाद सभी इलाके दिल्ली के बेहद नजदीक हो जाएंगे।

यह भी पढ़ें- बेरोजगार युवाओं को सरकार देगी स्वरोजगार, कमाई होगी धुंआधार

उल्लेखनीय है कि तमाम आधुनिक सुविधाओं से लैस देश की पहली रैपिड रेल दिल्ली से मेरठ के बीच चलाई जानी है। विभागीय अधिकारियों का प्रयास है कि अप्रैल 2023 तक नियमित रूप से यात्रियों के लिए रैपिड रेल का संचालन किया जाए। इसके लिए युद्ध स्तर पर कार्य चल रहा है। सबसे महत्वपूर्ण इस रेल की लाइन और जहां से रेल का संचालन किया जाना है यानी मानिटरिंग की जाएगी और सिग्नल तीनों ही पॉइंट को हर दृष्टि से जांचा परखा जा रहा है। विभाग के अधिकारी इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए पूरी तरह जुटे हुए हैं और इसका ट्रायल 3 से 6 महीने तक किया जाएगा। वहीं, साहिबाबाद से दुहाई तक करीब 17.25 किलोमीटर तक के कॉरिडोर को इसी दिसंबर तक पूरा कर लिया जाएगा। अब तक रैपिड रेल के 700 पिलर खड़े किए जा चुके हैं और जिस तरह से युद्ध स्तर पर कार्य किया जा रहा है निश्चित तौर पर अप्रैल 2022 तक गाजियाबाद तक रैपिड रेल का संचालन शुरू हो जाएगा।

24 मीटर की ऊंचाई पर बन रहे स्टेशन

एनसीआरटीसी योजना के तहत दुहाई से साहिबाबाद के बीच कुल 4 स्टेशन बनाए जा रहे हैं। जिसमें साहिबाबाद, दुहाई के अलावा गुलधार स्टेशन और मेरठ तिराहा स्टेशन भी शामिल है। जानकारी के अनुसार, रैपिड रेल के स्टेशन करीब 24 मीटर की ऊंचाई पर बनाए जा रहे हैं। विभाग के अधिकारियों का कहना है कि इसकी ऊंचाई ज्यादा इसलिए रखी गई है। क्योंकि गाजियाबाद में मेट्रो की लाइन भी जा रही है।

डिपो में खड़ी हो सकेंगी 12 ट्रेन

एनसीआरटीसी के अधिकारियों का कहना है कि रेल कॉरिडर के साथ एक डिपो भी तैयार किया जा रहा है और डिपो का ट्रायल भी अप्रैल 2022 से शुरू कर दिया जाएगा। इसके लिए सभी अधिकारी और एजेंसी रात और दिन जुड़ी हुई हैं। इस डिपो के अंदर ट्रेनों के परिचालन एवं रखरखाव के लिए उसके इंस्पेक्शन, लाइन और कंट्रोल सेंटर भी बनाया जाएगा। कॉरिडर की रेल लाइन भी दुहाई में ही उतारी जा चुकी है और जो डिपो तैयार किया जाएगा। उसमें 12 रेल खड़ी करने की व्यवस्था की जा रही है। बहराल इसके संचालन के बाद लाखों लोगों को इसका लाभ मिल पाएगा।

यह भी पढ़ें- राजधानी में बनेगा देश का पहला दिव्यांग स्टेडियम, दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग योजना को भी विस्तार

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned