इस्लाम धर्म में क्या है ताजिए का महत्व और मुसलमान क्यों निकलाते हैं मुहर्रम में ताजिया

इस्लाम धर्म में क्या है ताजिए का महत्व और मुसलमान क्यों निकलाते हैं मुहर्रम में ताजिया

Iftekhar Ahmed | Publish: Aug, 25 2018 08:55:46 PM (IST) Ghaziabad, Uttar Pradesh, India

इमाम हुसैन की शहादत से पहले है इस्लाम धर्म में इज्जत वाला महीना समझा जाता है मुहर्रम का महीना

गाजियाबाद. मुहर्रम इस्लामी कैलेंडर का पहला महीना है। यूं तो मुहर्रम के महीने को पैगम्बर मुहम्मद (स) के नवासे हजरत इमाम हुसैन की शहादत की वजह से याद किया जाता है। लेकिन, इस महीने की इमाम हुसैन की शहादत से पहले से भी इस्लाम धर्म में खास अहमियत है। मुहर्रम के बारे में जानकारी देते हुए नोएडा सेक्टर 168 सिथ्त नूर मस्जिद के इमाम औऱ खतीब जियाउलद्दीन हुसैनी ने बताया कि इस्लाम मजहब में मुहर्रम उन 4 महीनो में से एक है, जिन्हें अल्लाह तबारक व-तआला ने हुरमत यानी इज्जत वाला महीना बताया है। जिन चार महीनों को हुर्रमत (इज्जत) वाला महीना बताया गया है, उनमें 1. ज़िल-कदा (11वां महीना) 2. ज़िल हिज्जा (12 वां महीना) 3. मुहर्रम (पहला महीना) 4.रज्जब (7वां महीना)। मुहर्रम की दसवीं तारीख को आशूरा कहते हैं। इसी दिन इमाम हुसैन (र) को इराक के कर्बला के मैदान में उस वक्त के मुस्लिम शासक यजीद के फौजियों ने शहीद कर दिया था। उन्हीं के गम में लोग ताजिया निकालते हैं। लेकिन ये इस्लाम का हिस्सा नहीं है। बाद में शुरू हुई एक परंपरा है। इस्लाम धर्म में मुहर्रम की 10 तारीख यानी आशूरा का महत्व इमाम हुसैन की शहादत से पहले है। गौरतलब है इस बार 21 सितंबर को यौम-ए-आशूरा होने की संभावना है।

यह भी पढ़ेंः हज औऱ कुर्बानी की शुरूआत की पूरी कहानी, हजरत मुहम्मद से नहीं, हजरत इब्राहीम से है कुर्बानी का संबंध

इमाम हुसैन की शहादत से पहले इस्लाम धर्म में है मुहर्रम का महत्व
इमाम हुसैन की शहादत से पहले खुद पैगम्बर मुहम्मद (स) और उनके शिष्य आशूरा के दिन रोजा रखते थे। हदीस की किताब सहीह मुस्लिम की हदीस नंबर 2656 में आशूरा के बारे में जो जिक्र किया गया है, वह इस प्रकार है। हज़रात अब्दुल्लाह बिन अब्बास (रजि०) ने फरमाया था कि जब रसूलुल्लाह मोहम्मद सल्लल्लहु अलैहिवसल्लम मक्के से मदिने में तशरीफ़ लाए तो यहूदियों को देखा कि आशुरे के दिन (10 मुहर्रम) का रोजा रख्ते हैं। उन्होंने लोगों से पूछा कि क्यों रोजा रखते हो तो यहूदियों ने कहा कि ये वो दिन है, जब अल्लाह तआला ने मूसा (अलैह०) और बनी इसराइल को फ़िरऔन यानी मिस्र के जालिम शासक पर जीत दी थी, इसलिए आज हम रोजेदर हैं, उनकी ताज़ीम के लिए। इसपर नबी-ए-करीम मोहम्मद (स० अलैह०) ने कहा कि हम पैगम्बर मूसा (अलैह०) से तुम से ज्यादा करीब और मुहब्बत करते हैं। फिर मोहम्मद (स० अलैह०) ने मुसलमानों को इस दिन रोजा रखने का हुक्म दिया। वहीं, एक और हदीस में हज़रात अब्दुल्लाह बिन अब्बास (रजि०) कहते हैं कि जब मुहम्मद (स० अलैह०) ने 10वीं मुहर्रम का रोज़ा रखा और लोगों को हुक्म दिया तो लोगों ने कहा की या रसूलल्लाह (स० अलैह०) ये दिन तो ऐसा है कि इसकी ताज़ीम यहूदी और ईसाई करते हैं, तो मोहम्मद (स० अलैह०) ने फ़रमाया कि जब अगला साल आएगा तो हम 9 का भी रोज़ा रखेंगे। हालांकि, अगला साल आने से पहले ही मुहम्मद (स० अलैह०) की मौत हो गयी। इसलिए मुस्लमान 9 और 10 मुहर्रम दोनों दिन रोज़ा रखते हैं।

यह भी पढ़ेंः हज के दौरान पत्थर मारने की रस्म का रहस्य जानकर चौंक जाएंगे आप

इस्लामिक इतिहास में यौम-ए-आशूरा है महत्वपूर्ण दिन

इसके अलावा भी इस्लाम धर्म में यौम-ए-आशूरा यानी 10वीं मुहर्रम की कई अहमीयत है। इस्लामी मान्यताओं के मुताबिक, अल्लाह ने यौम-ए-अशूरा के दिन ही हजरत आदम अलैहिस्सलाम की तौबा कुबूल की। दुुनिया में सबसे पहली बारिश भी यौम-ए-अशूरा के दिन ही हुई। इसी दिन हजरत इब्राहीम अलैहिस्सलाम पैदा हुए। फिरऔन (मिस्र के जालिम शाशक) को इसी दिन दरिया-ए-नील में डूबोया गया और पैगम्बर मूसा को जीत मिली। हजरत सुलेमान अलैहिस्सलाम को जिन्नों और इंसों पर हुकूमत इसी दिन अता हुई थी। मजहब-ए-इस्लाम के मुताबिक कयामत भी यौम-ए-अशूरा के दिन ही आएगी। (हालांकि, ये बातें जईफ (कमजोर) हदीस से साबित है, लिहाजा इस पर सभी मुसलमान यकीन नहीं करते हैं, कियोंकि ये बातें गलत भी हो सकती हैं।)

यह भी पढ़ें- मुसलमान क्यों करते हैं कुर्बानी ये सच्चाई जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान
इमाम हुसैन 72 साथियों और परिवार के साथ शहीद कर दिए गए थे
इस्लामिक नए साल की दस तारीख को नवासा-ए-रसूल इमाम हुसैन अपने 72 साथियों और परिवार के साथ मजहब-ए-इस्लाम को बचाने, हक और इंसाफ कोे जिंदा रखने के लिए शहीद हो गए थे। लिहाजा, मोहर्रम पर पैगंबर-ए-इस्लाम के नवासे (नाती) हजरत इमाम हुसैन की शहादत की याद ताजा हो जाती है। किसी शायर ने खूब ही कहा है- कत्ले हुसैन असल में मरगे यजीद है, इस्लाम जिंदा होता है हर करबला के बाद। दरअसल, करबला की जंग में हजरत इमाम हुसैन की शहादत हर धर्म के लोगों के लिए मिसाल है। यह जंग बताती है कि जुल्म के आगे कभी नहीं झुकना चाहिए, चाहे इसके लिए सिर ही क्यों न कट जाए, लेकिन सच्चाई के लिए बड़े से बड़े जालिम शासक के सामने भी खड़ा हो जाना चाहिए।

मुहर्रम से मिलती है ये सीख
दरअसल, कर्बला के इतिहास को पढ़ने के बाद मालूम होता है कि यह महीना कुर्बानी और भाईचारगी का महीना है। क्योंकि हजरत इमाम हुसैन रजि. ने अपनी कुर्बानी देकर पुरी इंसानियत को यह पैगाम दिया है कि अपने हक को माफ करने वाले बनो और दुसरों का हक देने वाले बनो। आज जितनी बुराई जन्म ले रही है, उसकी वजह यह है कि लोगों ने हजरत इमाम हुसैन रजि. के इस पैगाम को भुला दिया और इस दिन के नाम पर उनसे मोहब्बत में नये नये रस्में शुरू की गई। इसका इसलामी इतिहास, कुरआन और हदीस में कहीं भी सबूत नहीं मिलता है। मुहर्रम में इमाम हुसैन के नाम पर ढोल-तासे बजाना, जुलूस निकालना, इमामबाड़ा को सजाना, ताजिया बनाना, यह सारे काम इस्लाम के मुताबिक गुनाह है। इसका ताअल्लुक हजरत इमाम हुसैन की कुर्बानी और पैगाम से दूर-दूर तक कोई वास्ता नहीं रखता है। यानी ताजिए का इस्लाम धर्म से कोई सरोकार या संबंध नहीं है। भारतीय उपमहाद्वीय के बाहर दुनिया में कहीं और मुसलमानों में ताजिए का चलन नहीं है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned