गाजियाबाद में बनेगा सबसे ऊंचा Rapid Rail Station, सबसे ऊपर रैपिड ट्रेन, उसके नीचे मेट्रो, बीच में बस तो सड़क पर दौड़ेंगी टैक्सी

Delhi-Meerut Rapid Rail Corridor : गाजियाबाद के मेरठ तिराहे पर बनाया जा रहा सबसे ऊंचा रैपिड रेल कॉरिडोर

By: lokesh verma

Published: 06 Sep 2021, 12:53 PM IST

गाजियाबाद. दिल्ली से मेरठ और मेरठ से दिल्ली आने-जाने वाले लोगों के लिए बेहद राहत वाली खबर है। क्योंकि रैपिड रेल कॉरिडोर (Delhi-Meerut Rapid Rail Corridor) का कार्य 50 फीसदी से अधिक निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। इसके साथ ही गाजियाबाद में मेरठ तिराहे पर एलिवेटेड स्टेशन का कार्य भी करीब 65 फीसदी हो गया है। मेरठ तिराहे पर बनने वाले एलिवेटेड स्टेशन को सबसे ऊंचा बनाया जा रहा है। यहां सबसे ऊपर रैपिड रेल उसके नीचे मेट्रो और फिर एलिवेटेड रोड पर बस और ग्राउंड फ्लोर पर टैक्सी फर्राटा भरेंगी। मेरठ तिराहे पर बन रहा रैपिड रेल एलिवेटेड स्टेशन करीब 26 मीटर ऊंचा बनाया जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक, कॉरीडोर के इस निर्माण कार्य में एक से ज्यादा इंजीनियर और 10 हजार से ज्यादा मजदूर दिन रात जुटे हुए हैं। बता दें कि दिल्ली सराय काले खां से मेरठ तक बनाए जा रहे इस प्रोजेक्ट पर 30,426 करोड़ रुपए की लागत आएगी। करीब 82 किलोमीटर लंबे इस प्रोजेक्ट के तहत दिल्ली से मेरठ तक कुल 24 स्टेशन बनाए जाने हैं, जिनका कार्य जोरों पर चल रहा है। जबकि गाजियाबाद में साहिबाबाद, गाजियाबाद, दुहाई और गुलधर स्टेशन बनाए जा रहे हैं। इसके साथ ही दुहाई में बड़ा डिपो भी तैयार किया जा रहा है। पहले फेज में दिल्ली से गाजियाबाद तक रैपिड रेल कॉरिडोर तैयार किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें- Ayodhya Ram mandir Nirman : कार्यशाला में फिर से गूंजने लगी छेनी-हथौड़ी की खटपट

रैपिड रेल काॅरिडोर का सबसे ऊंचा स्टेशन

गाजियाबाद के मेरठ चौराहे पर रैपिड रेल कॉरिडोर का सबसे ऊंचा यानी 26 मीटर की ऊंचाई पर बनाया जा रहा है। यहां चार तल पर ट्रैफिक का खास नजारा देखने को मिलेगा। इन चार तल में सबसे ऊपर रैपिड रेल, उसके नीचे मेट्रो चलेगी और उसके नीचे एलिवेटिड रोड पर बस चलेंगी तो सबसे नीचे सड़क पर कार टैक्सी आदि वाहनों का संचालन होगा। इसके अलावा शहीद स्थल मेट्रो स्टेशन और आरआरटीएस स्टेशन के बीच लोगों को सुविधा दिए जाने के उद्देश्य से एक 200 मीटर लंबा फुटओवर ब्रिज भी बनाए जाने की योजना है। रैपिड रेल कॉरिडोर तैयार होने के बाद गाजियाबाद की तस्वीर पूरी तरह बदली भी नजर आएगी।

पिलर्स पर रखे जा रहे बायडक्ट

एनसीआरसीटीसी के सीपीआरओ पुनीत वत्स ने बताया कि सिविल वर्क करीब 60 प्रतिशत पूरा हो चुका है। 900 खंभों के फाउंडेशन का कार्य पूरा किया जा चुका है। अब पिलर्स पर बायडक्ट रखने का कार्य तेजी से चल रहा है। गाजियाबाद में मेरठ तिराहे पर बनाया जा रहा स्टेशन सबसे ऊंचा होगा। स्टेशन के पास से गुजर रही मेट्रो के ऊपर से ही रैपिड ट्रैक भी गुजरेगा।

यह भी पढ़ें- बड़ी कार्रवाई: पाइपलाइन बिछाने के मामले में जब कराई गयी जांच, तो 450 करोड़ का घोटाला आया सामने, एक साथ 24 अफसरों पर रिपोर्ट

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned