scriptfake call center duping foreign nationals by sitting in noida exposed | नोएडा में बैठकर विदेशी नागरिकों से करोड़ों रुपये ठगने वाले फर्जी कॉल सेंटर का खुलासा, 8 गिरफ्तार | Patrika News

नोएडा में बैठकर विदेशी नागरिकों से करोड़ों रुपये ठगने वाले फर्जी कॉल सेंटर का खुलासा, 8 गिरफ्तार

नोएडा में बैठकर विदेशी नागरिकों से ठगी करने वाले एक फर्जी कॉल सेंटर का पर्दाफाश किया है। यह कॉल सेंटर विदेशियों को उनके ड्रग माफियाओं से संबंध होने की बात कहकर धमकाकर वसूली करता था। पुलिस ने सेक्टर-62 में चल रहे इस कॉल सेन्टर से 8 लोगों को गिरफ्तार किया है। हालांकि कॉल सेंटर का मास्टरमाइंड अभी फरार बताया जा रहा है।

गाज़ियाबाद

Published: November 18, 2021 12:40:32 pm

नोएडा. कोतवाली सेक्टर-58 पुलिस ने नोएडा में बैठकर विदेशी नागरिकों से ठगी करने वाले एक फर्जी कॉल सेंटर का पर्दाफाश किया है। यह कॉल सेंटर विदेशियों को उनके ड्रग माफियाओं से संबंध होने की बात कहकर धमकाकर वसूली करता था। पुलिस ने सेक्टर-62 में चल रहे इस कॉल सेन्टर से 8 लोगों को गिरफ्तार किया है। हालांकि कॉल सेंटर का मास्टरमाइंड अभी फरार बताया जा रहा है। पुलिस ने इनके कब्जे से इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस, 6 मोबाइल और कुछ ऐसी वॉइस रिकॉर्डिंग बरामद की हैं, जिसमें यह धमकी दे रहे थे। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।
fake-call-center-duping-foreign-nationals-by-sitting-in-noida-exposed.jpg
नोएडा जोन के एडीसीपी रणविजय सिंह ने बताया कि ये लोग फर्जी कॉल सेंटर के मध्यम से अमेरिकी के नागरिकों को इंटरनेट कॉलिंग करके अमेरिकी सोशल सिक्योरिटी के नाम पर धमकाते थे। ये लोग उनसे कहते थे कि हमें अमेरिकी कानूनी एजेंसियों से आपके बैंक खाते की जानकारी मिली है। आपने मेक्सिको और कोलंबिया में ड्रग माफिया से लेनदेन किया है। इसके बाद उनका मामला रफा-दफा करने की कहते थे और गूगल गिफ्ट कार्ड के रूप में डॉलर वसूल लेते थे।
यह भी पढ़ें- गाजियाबाद के पॉश इलाके में घूमता दिखा तेंदुआ, सीसीटीवी फुटेज सामने आने के बाद लोगों में दहशत

रोजाना चार हजार डालर ठगते थे

रणविजय सिंह ने बताया की सेंटर का मुख्य संचालक और मास्टरमाइंड पन्ना मध्य प्रदेश निवासी विनोद लखेरा अभी फरार है। पुलिस उसको तलाश कर रही है। कॉल सेंटर रात में चलता था और इनके निशाने पर खासतौर पर अमेरिका में रहने वाले भारतीय मूल के नागरिक होते थे। गिरोह का सरगना अमेरिका के वेंडरों से जुड़ा था। वेंडर डार्क वेब से अमेरिका के नागरिकों का डाटा प्राप्त करते थे। इसके लिए ये लोग टोल फ्री नंबर का इस्तेमाल करते थे। इनकी एक दिन की कमाई लगभग 3-4 हजार डॉलर थी, जो भारतीय मुद्रा का लगभग 2.5 से 3 लाख रुपये होता है। आठों आरोपी हर दिन अलग-अलग पचास लोगों से बातचीत करते थे। प्रति व्यक्ति करीब 100 डॉलर मांगे जाते थे, जो आसानी से मिल जाते थे।
अब तक सात करोड़ की ठगी

आरोपी डरा धमकाकर अब तक विदेशी लोगों से सात करोड़ से अधिक की ठगी कर चुके हैं। पुलिस ने आरोपियों से इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइस, 99 लेटर पैड, 41 दस्तावेज और छह मोबाइल फोन बरामद किए हैं। पुलिस कि गिरफ्त में आए आरोपियों के नाम सुमित त्यागी, अरुण चौहान, विशाल तोमर, राहत अली, केशव त्यागी, सुनील वर्मा, प्रशांत लखेरा और सतेंद्र लखेरा हैं, जो सेक्टर-62 स्थित आईथम टावर में एपी टैक्नोमार्ट के नाम से अंतरराष्ट्रीय फर्जी कॉल सेंटर चला रहे थे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

देश में घट रहे कोरोना के मामले, एक दिन में सामने आए 2.38 लाख केसPM मोदी की मौजूदगी में BJP केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक आज, फाइनल किए जाएंगे UP, उत्तराखंड, गोवा और पंजाब के उम्मीदवारों के नामक्‍या फ‍िर महंगा होगा पेट्रोल और डीजल? कच्चे तेल के दाम 7 साल में सबसे ऊपरतो क्या अब रोबोट भी बनाएंगे मुकेश अंबानी? इस रोबोटिक्स कंपनी में खरीदी 54 फीसदी की हिस्सेदारीPunjab: ED की बड़ी कार्रवाई, सीएम चन्नी के भतीजे के यहां से 6 करोड़ की नगदी बरामदराजस्थान में 17 दिन में 46 लोगों की टूट गई सांसेंछत्तीसगढ़ के इस जिले में कलेक्टर हुए कोरोना संक्रमित, पॉजिटिविटी रेट बढ़ा तो बंद किए स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्र24 घंटे में तीन की मौत, फिर हॉटस्पॉट बना एमपी का ये शहर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.