नामी फूड चेन बीकानेर स्वीट्स में सेहत से खिलवाड़, डोसा के सैंपल फेल

फूड सेफ्टी विभाग से डॉ विनीता सिंह और धर्मेद कुमार ने मसाला डोसा के सैंपलों को चार डिब्बों में सील करके लैब टेस्टिंग के लिए भेजा था।

By:

Published: 10 Nov 2017, 02:46 PM IST

गाजियाबाद। महानगर में नामी फूड चेन ग्राहकों की सेहत के साथ में खिलवाड़ करने में लगे हुए हैं। इनकी फेहरिस्त में अब बीकानेर स्वीट्स का नाम भी शामिल हो गया है। दरअसल बीकानेर स्वीट्स से लिए गए मसाला डोसा के सैंपल फेल हो गए हैं। एक महीने पहले यहां ग्राहक की तरफ से बासी डोसा परोसे जाने की शिकायत की गई थी।

मामले के तूल पकड़ने के बाद फूड विभाग ने कार्रवाई करते हुए सैंपलों को लैब में टेस्टिंग के लिए भेजा था। टेस्टिंग रिपोर्ट में दावा किया गय़ा है कि रेस्टोरेंट चेन की तऱफ से जो रेसिपी बताई गई थी वो गलत है। इसे मिस ब्राडिंड की कैटेगरी में माना गया है। फूड विभाग की तरफ से बीकानेर स्वीट्स को इस संबंध में जल्द ही नोटिस भेजा जाएगा।

क्या है पूरा मामला
27 सितम्बर 2017 को राजनगर आरडीसी स्थित बीकानेर स्वीट्स में देरशाम को कुछ लोग खाना खाने के लिए गए। वहां उन्होने डोसा ऑर्डर किए। इसके बाद में उन्हें बासी और खराब हो चुके आलू की पिट्ठी को डोसे में इस्तेमाल करने का शक हुआ। कस्टमर का दावा था कि खाने पर इसका स्वाद अजीब सा लग रहा था। पहले रेस्टेरेंट के स्टाफ से शिकायत की तो मामला टालने की कोशिश की गई। हंगामे की स्थिति बनने के बाद स्टाफ को गलती का एहसास हुआ। ग्राहक ने बताया कि विफरने पर मैनेजर ने खराब तेल और खाने की बात को स्वीकार किया था।

चार डिब्बों में लिए गए थे सैंपल
फूड सेफ्टी विभाग से डॉ विनीता सिंह और धर्मेद कुमार ने मसाला डोसा के सैंपलों को चार डिब्बों में सील करके लैब टेस्टिंग के लिए भेजा था। इसके अलावा रेसिपी के बारे मे स्टाफ से जानकारी ली गई थी और सम्बन्धित पेपरों को भी चैक किया गया था

रेसिपी के हिसाब से नहीं है तेल
खाद्य अधिकारी राजेश अग्रहरी ने बताया कि बीकानेर स्वीट्स से मसाला डोसा के सैंपल लिए गए थे। रिपार्ट में इसका खुलासा हुआ है कि रेसिपी में जिस ऑयल से इसका बनना बताया गया वो नहीं मिला है। इसलिए ये मिस ब्राडिंग की कैटेगरी में आता है। इस पर अधिकतम तीन लाख रूपये तक का जुर्माना है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned