स्मार्ट सिटी: जानिए, इस बार गाजियाबाद को कितने नंबर मिलेंगे

स्मार्ट सिटी: जानिए, इस बार गाजियाबाद को कितने नंबर मिलेंगे
smart city

sandeep tomar | Publish: Jan, 05 2017 06:44:00 PM (IST) Noida, Uttar Pradesh, India

पिछली बार गाजियाबाद का चयन स्मार्ट सिटी के लिए नहीं हो सका था

गाजियाबाद। देश में बडे शहरों को केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय द्वारा स्मार्ट सिटी बनाये जाने की योजना शुरु की है। गाजियाबाद को दोबारा से फेहरिस्त में पहुंचाने के लिए सर्वे का काम शुरु हो चुका है। महानगर को इसमें फिर से निऱाशा हाथ लग सकती है। दरअसल नगर निगम की कुछ खामियों की वजह से ऐसा संभव है।

पहले की कट चुके है तीस नम्बर

स्मार्ट सिटी में शामिल हाने के लिये साफ-सफाई और समुचित जनसुविधा के लिये 30 नम्बर दिए जाते हैं। निगम के 30 नम्बर पहले ही कट गये, बाकी बचे 70 नम्बर, उनको पाने की ओर भी निगम अधिकारी प्रयासरत नहीं दिखाई दे रहे हैं। इसके अलावा सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट अभी तक शुरु नहीं हुआ है। करोड़ों रुपये की लागत से इसे तैयार किया गया। ऐसे में शहर कूड़ाघर में तब्दील हो रहा है।

आरडब्लूए फेडरेशन ने दिए 11 सुझाव

आरडब्लूए फेडरेशन की तरफ से नगर निगम को 11 सुझाव दिए गए हैं। इनमें 200 सीएनजी सिटी बस चलाने, हिन्डन शमशान घाट पर मोकशदा प्रणाली से दाह संस्कार, अवैध कट बंद किए जाने, एनजीटी का उल्लंघन करने वाले बिल्डरों पर जुर्माना लगाने, महीने में कार फ्री डे, सीएसआर के तहत 2000 सीसी टीवी कैमरे, कूड़ा जलाने पर जुर्माना, मोहन नगर, अटल चौक, राजनगर एक्टेन्शन चौराहों पर एयर प्यूरीफायर, फाउन्टेन और वरच्युल चिमनी लगाना शामिल है।

नगर स्वावस्थ्य अधिकारी का कहना

नगर स्वास्थ्य अधिकारी के मुताबिक लोगों को बड़े स्तर पर जागरूक किया जा रहा है। सफाई व्यवस्था के लिए एप तैयार किया गया है। सीधे तौर पर इस पर शिकायत की जा सकती है। इसके अलावा सौंदर्यीकरण का काम भी कराया जा रहा है। स्मार्ट सिटी में शामिल कराए जाने के लिए पूरी कवायद की जा रही है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned